Best Glory Casino in Bangladesh and India!
सिर्फ़ कांग्रेस ही भाजपा से लड़ सकती है- इमरान मसूद

सिर्फ़ कांग्रेस ही भाजपा से लड़ सकती है- इमरान मसूद

सपा का सजातीय वोटर मुस्लिम प्रत्याशियों को वोट नहीं देता- शाहनवाज़ आलम

अंसारी भी पिछड़ों में आते हैं, लेकिन सपा के लिए सिर्फ़ यादव ही पिछड़े थे- अनीस विशाल अंसारी

बिजनौर के उलेमाओं के साथ अल्पसंख्यक कांग्रेस की ज़ूम मीटिंग में बोले वक्ता

लखनऊ, 8 जून 2021. सिर्फ़ कांग्रेस ही भाजपा की सांप्रदायिक राजनीति से देश को बचा सकती है. मुसलमानों समेत सभी को कांग्रेस के साथ आना होगा. सपा और बसपा किसी भी मसले पर भाजपा के खिलाफ़ आवाज़ नहीं उठाती.

ये बातें वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व विधायक इमरान मसूद ने बिजनौर ज़िला अल्पसंख्यक कांग्रेस द्वारा उलेमाओं के साथ आयोजित वर्चुअल मीटिंग में कहीं. उन्होंने कहा कि ऊलेमा हज़रात का देश की आज़ादी की लड़ाई में बहुत अहम रोल रहा है. एक बार फिर उन्हें देश को बचाने के लिए रहनुमाई करनी होगी.

अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने कहा कि बिजनौर के नहटौर में एनआरसी विरोधी आंदोलन में मारे गए अनस के परिजनों से मुलाक़ात करने प्रियंका गांधी जी आयी थीं, अखिलेश कभी नहीं आए. यहाँ तक कि वो अपने संसदीय सीट आजमगढ़ में भी एनआरसी विरोधी आंदोलन में पुलिस हिंसा की शिकार महिलाओं से मिलने नहीं गए. वहां भी प्रियंका गांधी ही गयीं.

शाहनवाज़ आलम ने कहा कि सपा के पास अब उसके 5 प्रतिशत वाले जातिगत वोट बैंक का आधा हिस्सा भी नहीं बचा है. और जो बचा भी है वो सपा के मुस्लिम प्रत्याशियों को वोट देने के बजाए भाजपा के प्रत्याशी को वोट देता है.

उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक कांग्रेस हर ज़िले के उलेमा हज़रात से वर्चुअल बैठक कर उनसे मिलने वाले सुझावों को प्रियंका गांधी जी के सामने रख रहा है. प्रियंका गांधी जी के निर्देश पर हर ज़िले के उलेमाओं से वर्चुअल मीटिंग की जा रही है. बहुत जल्द कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ऊलेमा प्रतिनिधियों से मिलेंगी.

संचालन कर रहे बिजनौर ज़िला अल्पसंख्यक कांग्रेस अध्यक्ष अनीस विशाल अंसारी ने कहा कि सपा राज में पिछड़ों को मिलने वाले आरक्षण का पूरा हिस्सा सिर्फ़ एक बिरादरी खा रही थी. पसमांदा समाज को सिर्फ़ ई रिक्शा बांटा गया. जबकि सिर्फ़ अंसारी बिरदारी अकेले ही यादवों से तीन गुना यानी 15 प्रतिशत है.

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.