Home » Latest » मान लो रेखाओं को सीता ने पार ही ना किया होता तो !

मान लो रेखाओं को सीता ने पार ही ना किया होता तो !

 

जंगलों में

कुलांच भरता

मृग

सोने का है

या मरीचिका ?

जानना उसे भी था

मगर

कथा सीता की रोकती है

खींच देता है

लखन,लकीर

हर बार

धनुष बाण से

संस्कृति कहती

दायरे में हो,

हो तभी तक

सम्मान से

हाँ यह सच है

रेखाओं के पार

का रावण

छलेगा

फिर

खुद को रचने में

सच का

आखर

आखर भी जलेगा

मगर

इन खिंची लीकों पे

किसी को

पाँव तो धरना ही होगा

डरती सहमती

दंतकथाओं

का

मंतव्य

बदलना ही होगा

गर स्त्रीत्व को

सीता ने

साधारणतः

जिया होता

मान लो रेखाओं को

पार ही ना किया होता

तो

राक्षसी दंश से

पुरखे

कहाँ बचे होते

इतिहास ने भी

राम के गर्व ना रचे होते …

डॉ. कविता अरोरा

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

political prisoner

“जय भीम” : जनसंघर्षों से ध्यान भटकाने का एक प्रयास

“जय भीम” फ़िल्म देख कर कम्युनिस्ट लोट-पोट क्यों हो रहे हैं? “जय भीम” फ़िल्म आजकल …

Leave a Reply