Home » Latest » बिना मानसून देवभूमि नरक है

बिना मानसून देवभूमि नरक है

कोरोना की तीसरी लहर

 Devbhoomi without monsoon is hell

पलाश विश्वास

शुभ सकाल। लगातार चौथी रात बिजली कटौती के कारण सो नहीं सके। बारिश न होने से खेतों को पानी चाहिए धन के लिए। बिजली के बिना सिंचाई अब होती नहीं। नदियां मार दी गईं। तालाब, कुंए और नहरें खत्म।

गर्मी बढ़ती जा रही है। बादल बरस नहीं रहे। जलवायु और मौसम की मार से न गांव बचेंगे न खेत।

कोलकाता से आने के बाद इतनी तकलीफ कभी नहीं हुई। मानसून के रूठ जाने से बिजली के भरोसे खेती कैसे होगी? जबकि गांव देहात में भी घर बाहर सारे काम बिजली से हैं। ऊपर से बिजली वालों की मनमानी।

बीमार और बजुर्गों की शामत है। सांस की तकलीफ वालों के लिए ये हालात बहुत मुश्किल है।

रात को सविता जी की सांसें उखड़ रही हैं।

घर से बाहर खुले में भी भयानक उमस है। मच्छर की वजह से टहल भी नहीं सकते।

कोरोना की तीसरी लहर के साथ सारी पुरानी महामारियां दस्तक दे रही हैं। हर बीमारी महामारी में तब्दील है। इसका जलवायु, मौसम और शहरी उपभोक्ता जीवन से गहरा नाता है।

गांव में अब न मिट्टी है न गोबर। न नीम और पीपल वट की छांव है। न जैव विविधता है। न चिड़िया हैं और न पालतू पशु।

गांव भी अब सीमेंट का जंगल है और बिजली रानी वह तोता है, जिसमें गांव के प्राण बसे हैं।

बिना मानसून देवभूमि पूरी तरह नरक है।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

entertainment

कोरोना ने बड़े पर्दे को किया किक आउट, ओटीटी की बल्ले-बल्ले

Corona kicked out the big screen, OTT benefited सिनेमाघर बनाम ओटीटी प्लेटफॉर्म : क्या बड़े …

Leave a Reply