Home » Latest » जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए दुनिया भर में बिजली को डी-कार्बनाइज़ (कार्बन मुक्त) होना होगा

जलवायु परिवर्तन से लड़ने के लिए दुनिया भर में बिजली को डी-कार्बनाइज़ (कार्बन मुक्त) होना होगा

डी-कार्बनाइज़,अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन,वैश्विक ऊर्जा क्षेत्र,मानव-प्रेरित ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का प्रत्यक्ष परिणाम,इंसानी गतिविधियों की वजह से ग्लोबल वार्मिंग,ग्लोबल वार्मिंग

Worldwide electricity has to be de-carbonized (carbon free) to fight climate change

अब इस सच से आंखें नहीं फेर सकते कि इंसानी गतिविधियों की वजह से ग्लोबल वार्मिंग अब दुनिया को तबाह और बरबाद करता साफ़ दिख रहा है। बात बस इतनी ही नहीं बल्कि खबर और भी उम्मीद से बदतर है।

इंटरनेशनल पैनल ऑन क्लाइमेट चेंज (IPCC) के वर्किंग ग्रुप वन की नवीनतम असेसमेंट रिपोर्ट (AR6) में पाया गया है कि दुनिया — पिछले आंकलन से 10 साल पहले ही — लगभग 2030 तक 1.5 डिग्री सेल्सियस से अधिक गर्म होने की राह पर है।

रिपोर्ट इसकी भी पुष्टि करती है कि वर्तमान वायुमंडलीय में घुली कार्बन डाई ऑक्साइड ( CO2) का कंसंट्रेशन / सांद्रता पिछले 800,000 वर्षों में अब सबसे अधिक है। पिछली असेसमेंट रिपोर्ट (AR5) की तुलना में, AR6 बहुत अधिक निश्चित है (>99% विश्वासनीय) कि यह मानव-प्रेरित ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन का प्रत्यक्ष परिणाम है।

सीधे तौर पर, AR6 हमें बताता है कि यह सुझाव देने के लिए कोई उचित सबूत नहीं है कि आधुनिक जलवायु परिवर्तन हमारी अपनी ग़लती के सिवाय कुछ भी और है।

वैश्विक ऊर्जा क्षेत्र (बिजली, गर्मी और परिवहन) हमारे कुल उत्सर्जन के लगभग 73% का हिस्सेदार है; यह हर देश की आर्थिक और विकासात्मक योजनाओं के पीछे का इंजन भी है – और उभरती और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में, जहां जीवन की गुणवत्ता, और साथ में ऊर्जा की खपत वैश्विक औसत से कम है, और भी ज़्यादा। और इसलिए यह हमारे लिए और अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है कि हम वातावरण में अधिक CO2 जोड़े बिना अपनी बढ़ती ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने में सक्षम हों।

सोलर ऊर्जा सभी देशों के लिए आदर्श समाधान है – और विशेष रूप से विकासशील दुनिया के लिए जहां अभी बहुत अधिक ऊर्जा क्षमता स्थापित की जानी है। सौर पहले से ही बिजली का आज का सबसे सस्ता स्रोत है, जो इसे नई बिजली क्षमताओं के लिए सबसे स्मार्ट विकल्प बनाता है, और ऊर्जा भंडारण के साथ मिलन से इसकी आंतरायिकता समाप्त हो जाती है। इसे किसी भी मांग प्रोफ़ाइल को पूरा करने के लिए ऊपर या नीचे स्केल किया जा सकता है, ज़ीरो उत्सर्जन गतिशीलता को शक्ति देने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह आत्मनिर्भर पारिस्थितिकी तंत्र बनने के रास्ते पर तेज़ी से बढ़ रहा है। सौर ऊर्जा के साथ में मॉड्यूल उत्पादन और संचालन के पुनर्चक्रण पक्ष को पावर देने से अपने आप इसके जीवन चक्र से किसी भी कार्बन उत्सर्जन को समाप्त कर देगा और टेक्नोलॉजी (प्रौद्योगिकी) को उत्सर्जन मुक्त बना देगा।

सौर में निवेश 2019 में कुल $131 बिलियन रहे; 2009 के बाद से इसकी वैश्विक क्षमता में 26 गुना से अधिक की वृद्धि हुई है और यह क्षेत्र 2050 तक 22 मिलियन नौकरियों का समर्थन करने के लिए तैयार है। विकेन्द्रीकृत सौर फोटोवोल्टिक (PV) सिस्टम सबसे दूरस्थ समुदायों के लिए भी पूरी तरह से अच्छी ढंग से काम करते हैं, और सौर कृषि पंप सेट एक स्वच्छ और डीजल ईंधन के मुक़ाबले बहुत ही किफायती विकल्प देता है।

उदाहरण के लिए, 1.5MWp तक के PV सिस्टम लद्दाख (भारत) के बहुत ऊंचाई वाले अलगाव में सफलतापूर्वक चल रहे हैं, और उप-सहारा अफ्रीका में सौर कृषि पंपसेटों ने बेहतर और अधिक विश्वसनीय सिंचाई, उच्च फसल की पैदावार, और किसानों के लिए प्रयोज्य आय में 30% तक की वृद्धि को बढ़ावा दिया है। सौर, इसलिए, निर्णय निर्माताओं के सबसे अधिक संदेह रखने वालों के लिए भी हर बॉक्स को चेक करता है।

अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन ने दुनिया भर में सौर की तकनीकी-आर्थिक व्यवहार्यता में सुधार करने के लिए कई केंद्रीय और क्षेत्रीय सरकारों का साथ दिया है और हम इस गति को बढ़ाने के लिए और ग्लोबल एडवोकेसी के माध्यम से नेट ज़ीरो वैश्विक उत्सर्जन के लिए सौर का प्रसार करने के लिए हम अपने अनुभव के पाठों को लागू कर रहे हैं (सौर टोचनोलॉजीज़ (प्रौद्योगिकियों) और बाजारों में प्रगति पर वैश्विक जानकारी प्रदान करके और देशों के लिए उनके आवेदन को सक्षम करके); सभी देशों में सस्ती पूंजी के प्रवाह के लिए पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करके, और सौर ऊर्जा से चलने वाले ग्रीन (हरित) आर्थिक सुधार के लिए स्किल्ड (कुशल) श्रमिकों के उप्ग्रडिंग (उन्नयन) के लिए; और सबसे अधिक चुनौती वाले देशों को सौर परियोजनाओं को शुरू करने में मदद करके जो भविष्य के निवेश के लिए उनकी नीतियों और प्रक्रियाओं को स्ट्रीमलाइन (सुव्यवस्थित) करेंगे। यह दुनिया को सौर ऊर्जा में निवेश करने और वैश्विक निवेश प्रवाह की सुविधा प्रदान करने और सौर अनुप्रयोगों को कई गुना बढ़ाने की सुविधा प्रदान करेगा।

टेक्नोलॉजी तैयार है और यह लागत प्रभावी है; हमें इसे तेज़ी से आगे बढ़ाने के लिए वैश्विक सहयोग की आवश्यकता है।

डॉ अजय माथुर

महानिदेशक, इंटरनेशनल सोलर एलायन्स(ISA)

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

news

एमएसपी कानून बनवाकर ही स्थगित हो आंदोलन

Movement should be postponed only after making MSP law मजदूर किसान मंच ने संयुक्त किसान …

Leave a Reply