अस्मिता की लड़ाई पर बने छोटे राज्य भ्रष्टाचार, रिश्वत कमीशनखोरी और लूटखसोट के सबसे बड़े केंद्र बन गए

जनाकांक्षा, आंदोलन, जल जंगल और पर्यावरण की लड़ाई और अस्मिता के सवाल पर ये राज्य बने। जो अब भ्रष्टाचार, रिश्वत कमीशनखोरी और लूटखसोट के सबसे बड़े केंद्र बन गए हैं, जहां सरकार किसी की भी बने, जल जंगल जमीन, जलवायु और पर्यावरण न्याय, समता और सामाजिक न्याय, कानून के राज और मानवाधिकार से वंचित है।
 | 
Palash Biswas

Small states built on the battle of identity became the biggest centers of corruption, bribery, commission, and plunder

पलाश विश्वास

नगालैंड, मिजोरम, अरुणाचल मेघालय और हिमाचल के बाद प्राकृतिक संसाधनों से समृद्ध तीन और छोटे राज्य (Three more small states rich in natural resources were formed) बने उत्तराखण्ड, झारखण्ड और छत्तीसगढ़। एक साथ। जनाकांक्षा, आंदोलन, जल जंगल और पर्यावरण की लड़ाई और अस्मिता के सवाल पर ये राज्य बने। जो अब भ्रष्टाचार, रिश्वत कमीशनखोरी और लूटखसोट के सबसे बड़े केंद्र बन गए हैं, जहां सरकार किसी की भी बने, जल जंगल जमीन, जलवायु और पर्यावरण न्याय, समता और सामाजिक न्याय, कानून के राज और मानवाधिकार से वंचित है।

यहां सत्ता भूमि माफिया, कारपोरेट दलालों और जनविरोधी तत्वों की बनती है जो भावनाओं की हिंसा और घृणा की राजनीति पर टिकी है।

जहां ज्वलन्त मुद्दों पर कोई चर्चा नहीं होती और तंत्र के स्तम्भ बन गए हैं आंदोलनकारी जो अब आंदोलन को कैश करने में लगे हैं।

निरन्तर जड़ों में सामाजिक, सांस्कृतिक सक्रियता से ही इन तीनों राज्यों और बाकी देश में वैकल्पिक जन राजनीति, अर्थव्यवस्था,पर्यावरण और जलवायु का निर्माण हो सकता है।

इसके लिए जनता को हक़ हकूक की जानकारी और कानून की समझ होनी चाहिए। इसके लिए युवा वकीलों की जनप्रतिबद्ध भूमिका समय की मांग है।

जलवायु न्याय पर इस सम्वाद के आयोजन और हमें भी शामिल करने के लिए इन्हीं युवा अधिवक्ताओं का आभार। सम्वाद से ही नया रास्ता बनेगा। हम पीड़ितों के सवाल लेकर आपके दरवाजा जरूर खटखटाएंगे। आपको अपना पक्ष तय करना होगा।

आंदोलन प्रोजेक्ट तक सीमित न रहे।

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription