जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता | Mamta Kiran | ममता किरण

जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता | Mamta Kiran | ममता किरण जड़ें मजबूत होतीं तो शजर आंधी भी सह जाता/ बनाते हम अगर मजबूत पुल तो कैसे ढह जाता / ज़रा सी धूप मिल जाती तो ये सीलन नहीं होती / जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता HASTAKSHEP KAVI …
जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता | Mamta Kiran | ममता किरण

जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता | Mamta Kiran | ममता किरण

जड़ें मजबूत होतीं तो शजर आंधी भी सह जाता/ बनाते हम अगर मजबूत पुल तो कैसे ढह जाता / ज़रा सी धूप मिल जाती तो ये सीलन नहीं होती / जो रिश्ता दर्द देता है मिसालों में वो रह जाता

HASTAKSHEP KAVI SAMMELAN, HINDI POETRY RECITATION,KAVI SAMMELAN, LITERARY TWEET, MAMTA KIRAN POEM RECITATION, POETRY, SAAHITYIK KALRAV, SAHITYA SABHA, SAHITYA SYMPOSIUM, कवि सम्मेलन, कविता, कविता पाठ, काव्य पाठ, काव्य पाठ इन हिंदी, काव्य पाठ हिंदी में, साहित्य गोष्ठी, साहित्य सभा, साहित्यिक कलरव हस्तक्षेप, कवि सम्मेल,न हस्तक्षेप काव्य पाठ, हिंदी काव्य पाठ,

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription