ब्राह्मण सम्मेलन से भाजपा को नहीं हराया जा सकता

इस विश्लेषण में बताया गया है कि UP का ब्राह्मण BJP के साथ क्यों गया ? साथ ही क्या ब्राह्मण सम्मेलन (Brahmin sammelan) करके विपक्ष उत्तर प्रदेश में भाजपा (BJP in Uttar Pradesh) को शिकस्त दे पाएगा?
 | 
Why did Brahmin go with BJP?

क्या ब्राह्मण सम्मेलन करके विपक्ष यूपी में भाजपा को शिकस्त दे पाएगा? Will the opposition be able to defeat the BJP in UP by holding a Brahmin sammelan?

उत्तर प्रदेश में विभिन्न दलों द्वारा ब्राह्मण सम्मेलन का आयोजन (Brahmin sammelan organized by various parties in Uttar Pradesh) करके भाजपा को शिकस्त नहीं दी जा सकती है.

इस तरह के सम्मेलन सिर्फ और सिर्फ संसाधन और ऊर्जा की बर्बादी है.

उत्तर प्रदेश का ब्राह्मण भाजपा के साथ क्यों गया ? Why did the Brahmin of Uttar Pradesh go with the BJP?

दरअसल उत्तर प्रदेश का ब्राह्मण सिर्फ सम्मान पाने के लिए भाजपा के साथ नहीं गया है. और सिर्फ यह बता कर कि उस पार्टी में आपका सम्मान सुरक्षित नहीं है- हमारे पास आइये, भाजपा को नहीं छोड़ देगा.

दर असल यह समुदाय हिंदुत्व के आकर्षण (charm of hindutva) में बड़े स्तर पर भाजपा मे गया. क्या भाजपा के हिंदुत्व को नकारने के लिए आपके पास उसका वैकल्पिक फ्रेमवर्क है? जाहिर सी बात है नहीं है. और आप इसीलिए अपनी राजनीति को हिंदुत्व के इर्द-गिर्द ही बुन रहे हैं. 

विपक्ष के पास ब्राह्मणों के लिए क्या है, जो भाजपा उन्हें नहीं दे सकती?

आखिर ऐसे सम्मेलनों का आयोजन करने के पहले आयोजकों को यह बताना चाहिए कि ब्राह्मणों के लिए उनके पास ऐसी क्या दवा है जो भाजपा उन्हें नहीं दे सकती?

जब तक आप उस पर बात नहीं करेंगे ब्राह्मण कहीं जाने वाला नहीं है.

बेहतर तो यह होता कि ब्राह्मण को जाति के बतौर पार्टी से जोड़ने के बजाए उस समुदाय के बुनियादी सवालों पर बात होती और उनको यह समझाया जाता कि भाजपा किस तरह से उनके बुनियादी सवालों को नष्ट कर रही है, किल कर रही है.

फिर इस बात की संभावना ज्यादा होती कि वह सियासी तौर पर ऐसी बात करने वाली पार्टी से जुड़ पाते. या फिर उस दल के साथ खड़ा होने के बारे में संजीदगी से सोच पाते.

लेकिन जातिगत चेतना को केंद्र में रखकर सोचने वाले और उसी को अपने लूट का अंतिम अस्त्र मानने वाले सियासी दलों से इस से ज्यादा अपेक्षा भी कैसे की जा सकती है?

आप लाख कोशिश कर लीजिए इस फ्रेमवर्क में एक ब्राम्हण कहीं से भी की छिटक कर आपके पास आने को तैयार नहीं है.

अनामदास

(लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं)

Read More

कमंडल की राजनीति का ही विस्तार था मंडल

क्या आरएसएस का सचमुच ह्दय परिवर्तन हो गया है या नई पैकेजिंग में हिन्दुत्व

मजहबी सियासत के हिंदुत्व एजंडे से मिलेगी आजादी स्त्री को?

हिंदुत्व, धर्म के नाम पर राजनीति का नाम है, हिन्दू धर्म से नहीं कोई वास्ता

संघ को हिन्दू धर्म की कोई समझ नहीं, भ्रमित हैं मोहन भागवत

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription