मंत्रिमंडल में फेर बदल : जस्टिस काटजू की टिप्पणी यह सिर्फ एक नौटंकी है

क्या मंत्रिमंडल में चेहरे बदलने से देश भर में व्यापक ग़रीबी, बेरोज़गारी, महंगाई, बाल कुपोषण, स्वास्थ सेवा और अच्छी शिक्षा का अभाव, किसानों का संकट, भ्रष्टाचार, दलितों और अल्पसंख्यकों पर अत्याचार, आदि दूर हो जाएंगे ? बिलकुल नहीं। इसलिए यह सिर्फ एक नौटंकी है।
 | 
काटजू कहिन : देश का नेता कैसा हो ? अजित पवार जैसा हो, देश के लिए सिरदर्द बन गए हैं महाराष्ट्रीयन राजनेता

 मंत्रिमंडल में फेर बदल

हाल के केंद्र सरकार में फेर बदल के बारे में मीडिया में बड़ी चर्चा हुई है। कई लोगों ने इसकी बड़ी प्रशंसा की है। पर वास्तविकता क्या है ?

हर राजनैतिक कार्यवाही या प्रणाली का एक और केवल एक ही परख और कसौटी होता है। क्या इससे आम आदमी का जीवन स्तर बढ़ता है ? क्या लोगों को बेहतर ज़िन्दगी मिलती है ? इस दृष्टिकोण से हाल का केंद्र सरकार में फेर बदल से यह स्पष्ट है कि यह आम जनता के जीवन में कोई अंतर नहीं लाएगा।

क्या मंत्रिमंडल में चेहरे बदलने से देश भर में व्यापक ग़रीबी, बेरोज़गारी, महंगाई, बाल कुपोषण, स्वास्थ सेवा और अच्छी शिक्षा का अभाव, किसानों का संकट, भ्रष्टाचार, दलितों और अल्पसंख्यकों पर अत्याचार, आदि दूर हो जाएंगे ? बिलकुल नहीं। इसलिए यह सिर्फ एक नौटंकी है।

भारत की भीषण आर्थिक और सामाजिक बुराइयों को दूर करने के लिए भारतीय जनता को आधुनिक मानसिकता के नेताओं के नेतृत्व में एक महान ऐतिहासिक जनसंघर्ष और जनक्रांति करनी होगी जो जाति और मज़हब के बाधाओं को तोड़कर ही संभव है। इसमें समय लगेगा और बड़ी कुर्बानिया देनी होंगी। परन्तु हर सच्चे देशभक्त को इसके लिए प्रयत्न करना चाहिए।

जस्टिस मार्कंडेय काटजू

(लेखक सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश व प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के पूर्व चेयरमैन हैं।)

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription