क्या अमेरिका की नस्लीय जनगणना से प्रेरणा लेकर मोदी सरकार जातीय जनगणना कराएगी?

2021 की हॉलीवुड की डाइवर्सिटी रिपोर्ट की एक झलक. भारत का लोकतंत्र विस्फोटित होने के कगार पर क्यों पहुँच गया ? शक्ति के स्रोतों में सामाजिक और लैंगिक विविधता. 2021 hollywood diversity report in Hindi.
 | 
debate issue बहस मुद्दा

हॉलीवुड डाइवर्सिटी रिपोर्ट 2021 के आईने में अमेरिकी जनगणना! | The US Census in the Mirror of Hollywood Diversity Report 2021!

वैसे तो सभ्यता के विकास के आरंभ से ही मानव जाति तरह – तरह की समस्यायों से आक्रांत रही है, किन्तु निर्विवाद रूप से इनमें ‘आर्थिक और सामाजिक गैर-बराबरी’ ही हमारी सबसे बड़ी समस्या रही है. यही वह समस्या है जिससे पार पाने के लिए दुनिया भर में बुद्ध से लगाये मार्क्स, लेनिन, माओ, आंबेडकर, भगत सिंह जैसे महामानवों का उदय तथा भूरि – भूरि साहित्य का सृजन होता रहा है. यही वह समस्या है जिससे निजात दिलाने के लिए समग्र इतिहास में लाखों- करोड़ों ने प्राण-बलिदान किया और इसे लेकर आज भी दुनिया के विभिन्न अंचलों में छोटा- बड़ा संघर्ष जारी है.

भारत का लोकतंत्र विस्फोटित होने के कगार पर क्यों पहुँच गया ?

इस समस्या की गंभीरता को देखते हुए ही डॉ. आंबेडकर ने राष्ट्र को संविधान सौपने के पूर्व चेतावनी देते हुए कहा था कि हमें निकटतम समय के मध्य आर्थिक और सामाजिक विषमता का खात्मा कर लेना होगा, नहीं तो विषमता से पीड़ित जनता उस लोकतंत्र के ढांचे को विस्फोटित कर सकती है, जिसे संविधान निर्मात्री सभा ने इतनी मेहनत से बनाया है. लेकिन स्वधीनोत्तर भारत के योजनाकार इस दिशा में खास काम न कर सके, जिससे आज भारत का लोकतंत्र विस्फोटित होने के कगार पर पहुँच गया है. इसके पीछे दो कारण रहे. पहला, शासक दलों ने स्ववर्गीय हित में इसके खात्मे में रूचि नहीं और दूसरा कुछ काम किया भी तो वह कारगर इसलिए नहीं हो पाया क्योंकि वे समझ ही न सके कि मानव जाति की समबसे बड़ी समस्या की सृष्टि विभिन्न सामाजिक समूहों और उनकी महिलाओं के मध्य शक्ति के स्रोतों- आर्थिक, राजनितिक, शैक्षिक और धार्मिक- के असमान बंटवारे से होती है.

जहाँ तक शक्ति के स्रोतों के बंटवारे का सवाल है, हजारों साल से दुनिया के हर देश का शासक वर्ग ही कानून बनाकर शक्ति का वितरण करता रहा है. पर, यदि हम यह जानने का प्रयास करें कि सारी दुनिया के शासकों ने किस पद्धति का अवलंबन कर शक्ति के स्रोतों का असमान बंटवारा कराया तो हमें विश्वमय एक विचित्र एकरूपता दिखती है. हम पाते हैं कि दुनिया के सभी शासक ही शक्ति के स्रोतों में सामाजिक और लैंगिक विविधता का असमान प्रतिबिम्बन करा कर ही, इस समस्या की सृष्टि करते रहे है. शक्ति के स्रोतों में सामाजिक और लैंगिक विविधता (Social and gender diversity in sources of power) के असमान प्रतिबिम्बन से ही मानव जाति की सबसे बड़ी समस्या की सृष्टि होती है, पूरा विश्व ठीक से इसकी उपलब्धि बीसवीं सदी के उत्तरार्द्ध में कर सका. चूँकि शक्ति के स्रोतों में सामाजिक और लैंगिक विविधता के प्रतिबिम्बन से ही आर्थिक और सामजिक विषमता की सृष्टि होती है, इसलिए यदि इसमें सामाजिक और लैंगिक विविधता का सम्यक प्रतिबिम्बन कराया जाय तो इसका खात्मा हो सकता है, यह सोचकर ही विषमता-मुक्त समाज बनाने के लिए बीसवीं सदी के उत्तरार्द्ध से लोकतान्त्रिक रूप से परिपक्व ब्रिटेन, कनाडा, अमेरिका, फ़्रांस, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, मलेशिया इत्यादि ने अपने-अपने देश में सामाजिक और लैंगिक विविधता के प्रतिबिम्बन में होड़ लगाया. इसके लिए उन्होंने अपने देश में होने वाली जनगणना में नस्ल, धर्म, लिंग इत्यादि के आधार पर बंटे विभिन्न सामाजिक समूहों और उनकी महिलाओं की शक्ति के स्रोतों हिस्सेदारी का आंकड़ा इकठ्ठा करना शुरू किया, ताकि असमान वितरण का शिकार बने समूहों की हिस्सेदारी सुनिश्चित करने की योजना बनायीं जा सकते.

इस मामले में अपवाद रहे तो अपने लोकतंत्र पर इतराने वाले स्वाधीन भारत के शासक. उन्होंने हर दस साल पर होने वाली जनगणना में विभिन्न जातीय समूहों और उनकी महिलाओं की शक्ति के स्रोतों में शेयर की स्थिति जानने का कोई प्रावधान ही नहीं किया. सटीक आंकड़े न होने से विभिन्न जातीय व धार्मिक समूहों और उनकी महिलाओं के मध्य शक्ति के स्रोतों का वाजिब बंटवारा ही न हो सका फलतः आज भारत में आर्थिक और सामाजिक विषमता सारी सीमाएं तोड़ चुकी हैं.

अमेरिका की 2020 की जनगणना में ‘सिख’ समुदाय की एक अलग श्रेणी जोड़ी गयी

भारत के विपरीत जिस देश ने शक्ति के स्रोतों के वाजिब बंटवारे का अनुकरणीय दृष्टांत कायम किया, वह अमेरिका है.

शक्ति के स्रोतों में सामजिक और लैंगिक विविधता का निर्भूल प्रतिबिम्बन हो, इसके लिए अमेरिका के बहुसंख्य शासक वर्ग गोरों और अल्पसंख्यक की श्रेणी में आने वाले रेड इंडियंस, हिस्पानिक्स और एशियन पैसेफिक मूल के लोगों का शक्ति के समस्त स्रोतों में हिस्सेदारी का आंकड़ा संग्रह किया जाता है. वहां हुए 2020 की जनगणना में ‘सिख’ समुदाय की एक अलग कटेगरी जोड़ी गयी है.

जिस तरह भारत में ओबीसी के लोग जातीय जनगणना के लिए कई सैलून से प्रयासरत हैं, उसी तरह सिख समुदाय से जुड़े एक्टिविस्ट एक दशक से अधिक समय से सेंसस ब्यूरो फॉर्म पर एक अलग कैटेगरी के लिए कैम्पेन चला रहे थे, जिसे 2020 की जनगणना में ‘विशिष्ट’ जातीय समूह के रूप में शामिल कर लिया गया. इससे पहले सिख ‘एशियाई भारतीयों’ की कैटेगरी में शामिल होते थे.

अमेरिका ने नहीं दिया ‘सबका साथ-सबका विकास’ का खोखला नारा

Key-2020-Film-Jobs बहरहाल अमेरिका अपने लोकतंत्र को आदर्श रूप देने व विषमता- मुक्त समाज निर्माण के लिए भारत की तरह ‘सबका साथ-सबका विकास’ का खोखला नारा न देकर नासा जैसा सर्वोच्च वैज्ञानिक संस्थान (जिसके समक्ष इसरो और बार्क लिलिपुट हैं, जहाँ आरक्षण नहीं लागू होता) ; हार्वर्ड, जिसके समक्ष डीयू प्राइमरी स्कूल की हैसियत रखता है; विश्व में सर्वाधिक नौकरी देने वाला वाल मार्ट, यश और धन की बुलंद ईमारत हॉलीवुड जैसा निजी संस्थान में ए टू जेड हर जगह सामाजिक और लैंगिक विविधता लागू करता व करवाता है. शक्ति के इन स्रोतों में विभिन्न नस्लीय समूहों के मध्य वाजिब बंटवारे के प्रति वह इतना सचेत रहता है कि वह हर संस्थान को अपनी वार्षिक डाइवर्सिटी रिपोर्ट प्रकाशित करने के लिए बाध्य करता है.

2021 की हॉलीवुड की डाइवर्सिटी रिपोर्ट की एक झलक | A glimpse of Hollywood's Diversity Report for 2021

यह रिपोर्ट कैसी होती है, इसे समझने के लिए बानगी के तौर 2021 की हॉलीवुड की डाइवर्सिटी रिपोर्ट की झलक पेश कर रहा हूँ. यूसीएलए कॉलेज ऑफ़ सोशल साइंस (UCLA College of Social Science) द्वारा 2021 के 22 अप्रैल को प्रकाशित इस विस्तृत रिपोर्ट का सार लिखा है जेसिका वुल्फ ने.

रिपोर्ट में कहा गया है कि ‘’हर उद्योग ने 2020 में महामारी का भार महसूस किया और हॉलीवुड कोई अपवाद नहीं था। दुनिया भर में व्यापार बंद रहे और शारीरिक दूरी के प्रयासों ने बॉक्स-ऑफिस के राजस्व पर कहर बरपाया तथा लंबे समय से चल रही फिल्म रिलीज रणनीतियों को प्रभावित किया।

रिपोर्ट से पता चलता है कि 2020 की शीर्ष फिल्मों में से 54.6% पूरी तरह से स्ट्रीमिंग सदस्यता सेवाओं के माध्यम से जारी की गई थी, एक प्रमुख प्रस्थान व्यापार से हमेशा की तरह।

मोशन पिक्चर एसोसिएशन के रिपोर्ट में संदर्भित नवीनतम निष्कर्षों के अनुसार, आधे से अधिक अमेरिकी वयस्कों ने बताया कि 2020 के दौरान ऑनलाइन सदस्यता सेवाओं के माध्यम से फिल्म और श्रृंखला सामग्री को देखने में वृद्धि हुई है। वैश्विक घरेलू और मोबाइल मनोरंजन बाजार 2020 के दौरान रिकॉर्ड 68 बिलियन डॉलर तक बढ़ गया, जो 2019 में 55.9 बिलियन डॉलर से 23% अधिक था। इस वैश्विक बाजार का अमेरिकी हिस्सा 2020 में लगभग 44% था।

लातीनी और अश्वेत वयस्कों ने अन्य समूहों की तुलना में उच्च स्तर पर ऑनलाइन सामग्री का उपभोग किया। इस साल की हॉलीवुड डायवर्सिटी रिपोर्ट की फिल्म की किस्त 2020 की शीर्ष 185 फिल्मों को ट्रैक करती है, नाटकीय रिलीज के लिए बॉक्स-ऑफिस राजस्व के प्रदर्शन को तोड़ती है, और इस साल के लिए नई, स्ट्रीमिंग फिल्मों के लिए नीलसन रेटिंग। 2020 के लिए नियोजित कई बड़ी ब्लॉकबस्टर फिल्मों की रिलीज़ की तारीख 2021 और उससे आगे बढ़ा दी गई थी। 

2020 में नाटकीय रूप से चलने वाली फिल्मों के लिए, अल्पसंख्यक बॉक्स-ऑफिस टिकट बिक्री के प्रमुख चालक थे, जैसा कि पिछले वर्षों में था। शीर्ष 10 रिलीज़ की गई फिल्मों में से छह के लिए, अल्पसंख्यकों ने शुरुआती सप्ताहांत के दौरान घरेलू टिकटों की बिक्री में सबसे अधिक योगदान दिया। सातवीं शीर्ष फिल्म के लिए, टिकटों की बिक्री का आधा हिस्सा अल्पसंख्यकों का था।

हॉलीवुड डायवर्सिटी रिपोर्ट यह भी ट्रैक करती है कि उद्योग की चार प्रमुख रोजगार श्रेणियों - प्रमुख अभिनेता, कुल कलाकार, लेखक और निर्देशक- में महिलाओं और अल्पसंख्यकों का प्रतिनिधित्व कितनी अच्छी तरह से किया जाता है।

रिपोर्ट के मुताबिक़ सभी चार जॉब की श्रेणियों ने 2020 में प्रगति दिखाई, लेकिन महिलाओं और रंग के लोगों को अभी भी महत्वपूर्ण बैक-द-कैमरा नौकरियों में कम प्रतिनिधित्व दिया गया है। महिलाओं ने सिर्फ 26% फिल्म लेखक और सिर्फ 20.5% निर्देशक बनाए। संयुक्त, अल्पसंख्यक समूहों को 25.4% पर निदेशकों के रूप में थोड़ा बेहतर प्रतिनिधित्व दिया गया था। 2020 में सिर्फ 25.9% फिल्म लेखक अश्वेत रंग के रहे. यूसीएलए की हॉलीवुड डायवर्सिटी रिपोर्ट अपनी तरह का एकमात्र अध्ययन है जिसमें विभिन्न नस्लीय समूहों के बीच शीर्ष फिल्में कैसा प्रदर्शन करती हैं, इसका विश्लेषण शामिल किया गया है, जिसमें अमेरिकी दर्शकों की विविधता के साथ कलाकारों, निर्देशकों और लेखकों की विविधता की तुलना की गई है।स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म के लिए, 21 से 30% अल्पसंख्यक कलाकारों वाली फिल्मों को श्वेत, काले, लातीनी और एशियाई घरों और दर्शकों के बीच 18- 41 में उच्चतम रेटिंग मिली।

एशियाई और अश्वेत परिवारों द्वारा रैंक की गई शीर्ष 10 स्ट्रीमिंग फ़िल्मों में, सात में ऐसे कलाकार थे जो 30% से अधिक अल्पसंख्यक थे। लातीनी और श्वेत परिवारों की शीर्ष 10 फिल्मों में से छह में ऐसी कास्ट थी जो 30% से अधिक अल्पसंख्यक थीं।

UCLA's latest Hollywood Diversity Report

यूसीएलए की रिपोर्ट अपने दशक के आंकड़ों में अभिनेता श्रेणियों में काफी प्रगति दिखाती है। 2011 में, ट्रैक किए गए पहले वर्ष में, आधे से अधिक फिल्में कलाकारों की विविधता के निम्नतम स्तर पर गिर गईं - 11% से भी कम। हालांकि, 2020 में, 28.8% फिल्मों में कलाकारों की विविधता का उच्चतम स्तर था - 50% या उससे अधिक। 2020 में केवल 10% से कम फिल्में कलाकारों की विविधता के निम्नतम स्तर पर आ गईं।2014 में रिपोर्ट लॉन्च होने के बाद पहली बार, अमेरिकी आबादी में उनकी उपस्थिति के अनुपात में मुख्य अभिनेता और कुल कलाकारों की श्रेणियों में रंग के लोगों का प्रतिनिधित्व किया गया था - क्रमशः 39.7% और 42% रंग के लोग अमेरिका की आबादी का 40.3% हिस्सा बनाते हैं।

2021 hollywood diversity report in Hindi

2020 की फिल्मों के विश्लेषण ने निर्देशकों और कलाकारों की नस्लीय और लैंगिक विविधता के बीच संबंध को भी दिखाया है।

2020 में, एक महिला निर्देशक के साथ लगभग सभी फिल्मों में एक महिला प्रधान (94.7%) भी दिखाई दी। अल्पसंख्यकों द्वारा निर्देशित फिल्मों में कलाकारों की विविधता का उच्चतम स्तर था। और रंग के लोगों द्वारा निर्देशित 78.3% फिल्मों में अल्पसंख्यक नेतृत्व होता है। हालांकि, रिपोर्ट में कहा गया है कि बड़े बजट की फिल्मों पर शो चलाने वाली महिलाओं और रंगीन लोगों के अपेक्षाकृत कम उदाहरण हैं, जिन्हें व्यापक दर्शकों के लिए विपणन किया गया है।

रिपोर्ट के सह-लेखक और सामाजिक विज्ञान के विभाजन के लिए अनुसंधान और नागरिक जुड़ाव के निदेशक, एना-क्रिस्टीना रेमन ने कहा, "हमारी रिपोर्ट में पाया गया है कि रंग की महिला निर्देशकों और निर्देशकों के पास अत्यधिक विविध प्रस्तुतियाँ हैं।" "हालांकि, इन फिल्मों में अक्सर पुरुष निर्देशकों और श्वेत निर्देशकों की तुलना में छोटे बजट होते हैं। इसलिए, एक वर्ष में जहां अधिक विविध प्रस्तुतियों को स्ट्रीमिंग सेवाओं के माध्यम से बड़े दर्शकों के लिए अधिक सुलभ बनाया गया था, इसके विपरीत यह है कि किस प्रकार की फिल्मों में बड़े बजट होते हैं। महिलाओं और अश्वेत रंग के लोगों द्वारा लिखित और नेतृत्व वाली फिल्मों का स्पष्ट रूप से कम निवेश है।

श्वेत फिल्म निर्देशकों की अल्पसंख्यक निर्देशकों की तुलना में दोगुने से अधिक संभावना थी कि वे 100 मिलियन डॉलर या उससे अधिक के बजट के साथ एक फिल्म का संचालन किये - 6.4% बनाम 2.8% पुरुषों और महिलाओं को समान रूप से 2020 में एक बड़े बजट की फिल्म निर्देशित करने की संभावना थी - क्रमशः 5.7% और 5.6%

महिलाओं और अश्वेत रंग के लोगों की उन फिल्मों को निर्देशित करने की अधिक संभावना थी जो 20 मिलियन डॉलर से कम की सबसे कम बजट श्रेणी में आती हैं। 

अश्वेत लोगों द्वारा निर्देशित फिल्मों के लिए, गोरे निर्देशकों के 72.3 % के मुकाबले 60% का बजट रहा महिलाओं द्वारा निर्देशित फिल्मों के लिए भी ऐसा ही था। उनमें से 74.3% के पास बजट 20 मिलियन डॉलर से कम था, जबकि पुरुष निर्देशकों के लिए यह 59.2% था।

रिपोर्ट में अन्य निष्कर्षों में: 2020 की शीर्ष फिल्मों में महिलाओं ने मुख्य अभिनेताओं का 47.8% और कुल कलाकारों का 41.3% हिस्सा बनाया। महिलाएं अमेरिका की आबादी का लगभग आधा हिस्सा हैं। गोरे, काले और मध्य पूर्वी या उत्तरी अफ्रीकी अभिनेताओं में, महिलाओं को उन समूहों के पुरुषों की तुलना में 2020 की शीर्ष फिल्मों में काफी कम प्रतिनिधित्व दिया गया था। लातीनी, एशियाई, बहुजातीय और मूल अभिनेताओं में, महिलाओं ने या तो अपने पुरुष समकक्षों के साथ समानता का रुख किया या 2020 की फिल्मों में इसे पार कर लिया। सभी नौकरी श्रेणियों में सबसे कम प्रतिनिधित्व वाले समूह, अमेरिका में उनकी उपस्थिति के सापेक्ष, लातीनी, एशियाई और मूल निवासी अभिनेता, निर्देशक और लेखक हैं।

UCLA's Hollywood Diversity Report

वर्तमान रिपोर्ट में 10 साल का डेटा शामिल है, जिससे यूसीएलए की हॉलीवुड डायवर्सिटी रिपोर्ट फिल्म उद्योग में सबसे लंबे समय तक चलने वाली, लैंगिक और नस्लीय विविधता का लगातार विश्लेषण करती है। टीवी उद्योग डेटा, अब द्विवार्षिक रिपोर्ट का भाग दो, सितंबर 2021 में जारी किया जाएगा।

2021 की हॉलीवुड डाइवर्सिटी रिपोर्ट बताती है कि अमेरिका अपने देश के विभिन्न सामाजिक समूहों के मध्य शक्ति के स्रोतों के वाजिब बंटवारे के प्रति कितना गंभीर है. हॉलीवुड की भांति ही वाल मार्ट, फोर्ड मोटर्स,जनरल मोटर इत्यादि विविध व्यवसायिक संस्थानों की जो वार्षिक डाइवर्सिटी रिपोर्ट प्रकाशित होती है, उसमे यह देखा जाता है वर्कफ़ोर्स, सप्लाई, डीलरशिप, ट्रांसपोर्टेशन इत्यादि में विभिन्न नस्लीय समूहों की क्या स्थिति रही. कार्यबल में उच्च पदों में विविधता का ख्याल रखा जाता है. बहरहाल डाइवर्सिटी रिपोर्ट से सभी क्षेत्रों में असमानता के खात्मे के लिए अवसरों के बंटवारे में मदद मिलती है और इसमें सहायक होती है अमेरिका की नस्लीय जनगणना. क्या अमेरिका के नस्लीय जनगणना से प्रेरणा लेकर मोदी सरकार जातीय जनगणना के लिए मन बनाएगी?  

एच.एल.दुसाध

(लेखक बहुजन डाइवर्सिटी मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं.)   

पाठकों से अपील

Donate to Hastakshep

नोट - 'हस्तक्षेप' जनसुनवाई का मंच है। हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

OR

भारत से बाहर के साथी Pay Pal के जरिए सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

Subscription