उत्तर प्रदेश पहुंचा नागरिकता कानून का विरोध, कई जिलों में धारा 144 लागू

News and views on CAB

Opposition of citizenship law reached Uttar Pradesh, Section 144 applied in many districts

लखनऊ, 16 दिसम्बर 2019 : अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए भाजपा गठबंधन की सरकार ने नागरिकता संशोधन अधिनियम -Citizenship Amendment Act (सीएए) विधयेक के नाम पर देश को अजीब मोड़ पर लाकर रख दिया है। सीएए का राष्ट्रव्यापी विरोध बढ़ने के मद्देनजर प्रदेश सरकार ने अलीगढ़, सहारनपुर, कासगंज और मेरठ समेत अन्य कई जिलों में एहतियात के तौर पर धारा 144 लागू कर दी है। इन जिलों की इंटरनेट सेवा भी बाधित हैं।

Video of stone pelting firing in AMU goes viral on social media

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एएमयू में पथराव फायरिंग के वीडियो (Video of stone firing in AMU) सोशल मीडिया में वायरल होता देख जिला प्रशासन ने 15 दिसंबर की रात साढ़े दस बजे से 16 दिसंबर की रात दस बजे तक इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं। इस दौरान लीज लाइन और लूप लाइन की इंटरनेट की सेवाएं भी नहीं चलेंगी। इसके अलावा नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शन (Protests on Citizenship Amendment Bill) को देखते हुए सहारनपुर में रविवार रात 12 बजे से इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गईं।

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि, देर रात राजधानी लखनऊ में करीब 500 छात्रों ने सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किया और जाम लगा दिया। जिस पर पुलिस ने लाठी चार्ज किया।

बताया जा रहा है कि किसी ने सोशल मीडिया पर जामिया मिलिया विवि में हुए बवाल को लेकर तरह-तरह के मैसेज चला दिए। व्हाट्एप पर किसी ने पुलिस की गोली लगने से एक छात्र की मौत का मैसेज चला दिया उसके बाद माहौल गर्म हो गया और छात्र सड़क पर उतर आए। अब प्रशासन प्रदर्शनकारियों की सीसीटीवी फुटेज तलाशकर उन पर एफआईआर दर्ज करने की तैयारी कर रहा है।

Aligarh Muslim University students strongly opposed the Citizenship Amendment Bill at the campus gate

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों ने कैंपस के गेट पर बिल का जमकर विरोध किया था। इस दौरान प्रदर्शनकारी छात्रों की पुलिस के साथ झड़प भी हुई थी, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस और वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। एएमयू के छात्रों ने यह विरोध प्रदर्शन दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया के पास हुए विरोध प्रदर्शन के तुरंत बाद किया था। विश्वविद्यालय प्रशासन ने तनावपूर्ण स्थिति को देखते हुए यूनिवर्सिटी को 5 जनवरी 2020 तक बंद करने का आदेश दिया है।

मुख्यमंत्री योगी ने बयान जारी कर कहा है कि नागरिकता संशोधन कानून के संदर्भ में कुछ निहित स्वार्थी तत्वों द्वारा फैलाई जाने वाली किसी भी अफवाह ध्यान न देने को कहा है। उन्होंने कहा सभी कानून का पालन करना पड़ेगा। अमन के माहौल को किसी को भी खराब करने की इजाजत नहीं है।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें
 

Leave a Reply