Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » हमारा बचपन ढिबरी और लालटेन की रोशनी में बीता है और आपका?
पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

हमारा बचपन ढिबरी और लालटेन की रोशनी में बीता है और आपका?

विश्व साहित्य, बांग्ला, हिंदी और अंग्रेजी की पत्र पत्रिकाओं, रवींद्र, शारत, बंकिम, माइकल के साहित्य, गोर्की की मां, पर्ल बक की गुड अर्थ, हेमिंग्वे की द ओल्डमैन एंड द सी, विक्टर ह्यूगो की हंचबैक ऑफ नॉस्टरडम से लेकर प्रेमचंद, अमृतलाल नागर, तारा शंकर बंदोपाध्याय, समरेश बसु, निराला, मुक्तिबोध, शैलेश मटीयानी, अमृता प्रीतम सभी इसी मद्धिम सी रोशनी में समाहित है।

इसलिए शायद मेरे साहित्य के पाठ में पथेर पांचाली, देवदास, श्रीकांत, पिंजर, आधा गांव, गोदान की उदासी बहुत ज्यादा है।

हमारी स्मृतियां और लोकछवियां श्वेत श्याम हैं, जिसमें तकनीक का कोई चमत्कार नहीं है।

जनता की रोजमर्रा की जिंदगी की रोशनी भी इसीतरहा मद्धिम सी है। जो रंग हैं वे या इंद्रधनुष के हैं या फसलों के, फूलों के तितलियों और पक्षियों के हैं।

दुनिया बदल ज्ञान है लेकिन इन स्मृतियों में लोक की पुरानी दुनिया अभी आबाद है, जिसमें लता मंगेशकर, सचिन देव बर्मन, भूपेन हजारिका, भीमसेन जोशी, रविशंकर, के एल सहगल, तलत महमूद, शमशाद बेगम के स्वर हैं।

अब लालटेन सिर्फ एक चुनाव चिन्ह है। बैलों की जोड़ी, झोपड़ी और दीपक चुनाव चिन्ह हैं या नहीं मालूम।

बाजार ने सारा कायाकल्प कर दिया है और तकनीक ने जनता को स्मृतियों और लोक से, संगीत और भाषा, बोली से बेदखल कर दिया है।

विभाजन से, भुखमरी, महामारी और नरसंहार से भी बड़ी, युद्ध, गृहयुद्ध, परमाणु युद्ध और प्राकृतिक आपदाओं, जलवायु परिवर्तन से भी बड़ी त्रासदी यह है।

बिडंबना यह है कि अपने अतीत, इतिहास और विरासत, जल जंगल जमीन आजीविका और प्रकृति, मनुष्यता, सभ्यता और संस्कृति से इस अनंत बेदखली का अहसास हमें नहीं है।

दिनेशपुर में राष्ट्रीय लघु पत्र पत्रिका सम्मेलन की व्यवस्था को अंतिम रूप देने के लिए आज प्रेरणा अंशु परिवार की बैठक थी।

बैठक के बाद हम परिवार के खास सदस्य आरती और असित के घर चले गए, जहां लालटेन और ढिबरी को बड़े जतन से रखा गया है।

अंशु और डुग्गू के साथ कुछ देर के लिए हम पुरानी दुनिया की टाइम मशीन की यात्रा पर निकल गए।

पलाश विश्वास

Web title : Our childhood is spent in the light of candles and lanterns and yours?

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में पलाश विश्वास

पलाश विश्वास। लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग पलाश जी हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।

Check Also

jagdishwar chaturvedi

जाति को नष्ट कैसे करें ?

How to destroy caste? जितने बड़े पैमाने हम जाति-जाति चिल्लाते रहते हैं, उसकी तुलना में …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.