योगी ने कांग्रेस में नई जान फूंक दी, 50 हज़ार से अधिक कांग्रेसी कार्यकर्त्ताओं ने फेसबुक लाइव कर सरकार को ललकारा

50 हज़ार से अधिक कांग्रेसी कार्यकर्त्ता फेसबुक लाइव, कहा प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की गिरफ्तारी निंदनीय और गैरकानूनी

गरीबों मजदूरों को बसों से लाने की कोशिश से बौखलाई सरकार ने हमारे प्रदेश अध्यक्ष को भेजा जेल: आराधना मिश्रा

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्व राजीव गांधी जी की शहादत दिवस पर दी गयी श्रद्धांजलि

पूरी पार्टी की एकजुटता प्रदेश अध्यक्ष के साथ, कार्यकर्ताओं ने लिया सेवाभाव का संकल्प : प्रदेश उपाध्यक्ष

लखनऊ, 21 मई 2020। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने जारी बयान में कहा है कि उत्तर प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू की गिरफ्तारी गैरकानूनी है। जिनकी पुरजोर निंदा होनी चाहिए। गौरतलब है कि अजय कुमार लल्लू लगातार श्रमिक भाई बहनों की मदद कर रहे थे। लखनऊ की वीरान सड़कों पर दिन, दोपहर और देर रात तक खाना, पानी और नाश्ता बांटते थे।

विधायक दल नेता श्रीमती आराधना मिश्रा मोना ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को लाने के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी की महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी ने 1000 बसों की अनुमति मांगी थी लेकिन मजदूर-गरीब विरोधी सरकार ने यूपी सीमा पर बसों को अंदर नहीं आने दिया। 3 दिनों तक बसों को लेकर हम दुःख के साथ बेबस खड़े रहे।

उन्होंने कहा कि आगरा में मजदूरों के लिए बसों को यूपी की सीमा में लाने की पैरोकारी कर रहे अजय कुमार लल्लू को योगी आदित्यनाथ की पुलिस ने गैरकानूनी ढंग से गिरफ्तार किया। जैसे ही उनको आगरा में जमानत मिली कि गरीब और मजदूर विरोधी सरकार ने अपनी ओछी मानसिकता का परिचय दिया और लखनऊ पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

प्रदेश उपाध्यक्ष श्री पंकज मलिक और श्री बीरेंद्र चौधरी ने जारी संयुक्त बयान में बताया कि हमारे प्रदेश अध्यक्ष को 14 दिनों की पुलिस रिमांड पर जेल भेजा जाना सरकार की तानाशाही और गरीब और मजदूर विरोधी जेहनियत का मुजाहिरा करती है। पूरी पार्टी अपने प्रदेश अध्यक्ष के समर्थन और एकजुटता में खड़ी है।

संयुक्त बयान में कहा गया कि आज पूरे प्रदेश में 50 हज़ार से अधिक कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और नेताओं ने अपने फेसबुक पेज पर लाइव किया और भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्व राजीव गांधी जी की 30 वीं शहादत दिवस पर श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष के प्रति अपनी एकजुटता जाहिर की। तमाम कार्यकर्ताओं ने श्रमिकों की व्यथा व्यक्त की और श्रमिकों की सेवा का संकल्प लिया।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations