ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत से पाकिस्तान और नेपाल भी आगे, भारत को मिली 107वीं रैंक

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत से पाकिस्तान और नेपाल भी आगे, भारत को मिली 107वीं रैंक

जानिए ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2022 में भारत को कौन सी रैंक मिली

मुंबई, 15 अक्टूबर, (न्यूज़ हेल्पलाइन)। ग्लोबल हंगर इंडेक्स की 2022 की लिस्ट में भारत को 107वीं रैंक मिली है। पड़ोसी देश पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल इस सूची में आगे हैं। यानी इन देशों की स्थिति भारत से बेहतर है।

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में लगातार गिर रही है भारत की रैंक

पाकिस्तान की रैंकिंग 99, बांग्लादेश की रैंकिंग 84, नेपाल की रैंकिंग 81 और श्रीलंका की रैंकिंग 64 रही है। सिर्फ अफगानिस्तान ही है जो 109 रैंक के साथ भारत से पीछे है। कुल 121 देशों की इस लिस्ट में भारत की रैंकिंग लगातार गिरती जा रही है। पिछले साल के मुकाबले भारत 6 रैंक नीचे फिसल गया है। 2021 में भारत की रैंक 101 थी और 2019 में 94, यानी दो साल में भारत की स्थिति काफी बदतर हो गई है।

 इस सूची में 17 देश एक साथ शीर्ष रैंक पर आए हैं। इनमें चीन, तुर्की और कुवैत शामिल है। इनका ग्लोबल हंगर इंडेक्स स्कोर 5 से कम है। तो वही मंत्रालय ने अपने बयान में फूड एंड एग्रीकल्चरल ऑर्गनाइजेशन (FAO) की ‘द स्टेट ऑफ फूड सिक्योरिटी एंड न्यूट्रिशन इन द वर्ल्ड 2021’ पर भी सवाल उठाए हैं। हंगर इंडेक्स में अंडरनरिश्मेंट का डेटा FAO की इसी रिपोर्ट से लिया गया है।

पी चिदंबरम ने ग्लोबल हंगर इंडेक्स पर मोदी सरकार ने साधा निशाना

कांग्रेस सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम ने रिपोर्ट का हवाला देते हुए मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

श्री चिदंबरम ने ट्वीट किया कि 2014 से मोदी सरकार के 8 साल के दौरान हमारा GHI स्कोर खराब होता गया है। माननीय पीएम कुपोषण, भुखमरी और बच्चों में स्टंटिंग और वेस्टिंग जैसे मुद्दों पर कब बात करेंगे।

पिछले साल ग्लोबल हंगर इंडेक्स में 100 के पार रैंक जाने के बाद भारत सरकार ने इस रिपोर्ट पर सवाल उठाए थे। सरकार ने इसे जमीनी हकीकत से बिलकुल अलग बताया था। सरकार ने दावा किया था कि इस इंडेक्स को तैयार करने में जो प्रणाली विज्ञान (methodology) इस्तेमाल की गई है, वह वैज्ञानिक नहीं है।

Pakistan and Nepal also ahead of India in Global Hunger Index, India got 107th rank

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner