पाकिस्तान : महिला पत्रकार की रहस्यमय मौत पर मानवाधिकार समूहों ने न्याय की मांग की

शहीना बलोची पत्रिका रज़गहर (सहेली) की संपादक थीं और पाकिस्तान टेलीविज़न नेटवर्क के बोलन क्षेत्र में एंकर थीं।

Pakistan: Human rights groups demanded justice over the mysterious death of a female journalist.

Shaheena Balochi was the editor of the magazine Razgahar (Saheli) and was an anchor in the Bolan region of Pakistan Television Network.

7 सितंबर को पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग, फ्रीडम नेटवर्क, द कोलिशन फॉर वीमेन इन जर्नलिज्म एंड वॉयस ऑफ़ बलूचिस्तान (Human Rights Commission of Pakistan, Freedom Network, The Coalition for Women in Journalism and Voice of Baluchistan) सहित कई प्रमुख मानवाधिकार समूहों ने वरिष्ठ पत्रकार 25 वर्षीय शहीना शाहीन बलूच की हत्या की निंदा की जिनको रहस्यमय तरीक़े से शनिवार शाम को दक्षिण-पश्चिम पाकिस्तान के तुर्बत में मार दिया गया।

बलोची मैगजीन दज़गोहर की संपादक और पाकिस्तान टेलीविजन नेटवर्क के बोलन क्षेत्र की एंकर शाहीना बलूचिस्तान विश्वविद्यालय में फाइन आर्ट का अध्ययन कर रही थीं।

पुलिस ने अपनी एफआइआर में कहा है कि उनके परिवार के सदस्यों को उनके पति पर “ऑनर किलिंग” में शामिल होने का संदेह है।

पाकिस्तान में ऑनर किलिंग | Honor killing in Pakistan

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पत्रकार को दो पुरुषों द्वारा तुर्बत के एक ज़िला अस्पताल में लाया गया था जिसमें से एक उनके पति मेहराब घिचकी को पाया गया था जो तुरंत अस्पताल से भाग गया था।

उनकी रहस्यमय हत्या के बाद द कोलिशन फॉर वूमेन इन जर्नलिज्म (The Coalition for Women in Journalism) ने संघीय और केंद्रीय एजेंसियों से इस मामले की जांच करने और उनके हत्यारे को दंडित करने के लिए कड़े क़दम उठाने की मांग की है।

शाहीना को जेंडर एक्टिविस्ट के रूप में बताया जाता था जिनका महिला मुक्ति और सामाजिक कार्यों में योगदान के लिए केच क्षेत्र में बहुत सराहना की गई थी, मानवाधिकार समूह, द कोलिशन फॉर वुमन इन जर्नलिज्म, ने अपने बयान में कहा,

“उन्होंने अपने काम के माध्यम से लिंग समानता और महिला सशक्तीकरण के लिए सक्रिय रूप से अभियान चलाया। हालांकि इस हत्या को ऑनर किलिंग से जोड़ा जा रहा है ऐसे में यह बलूचिस्तान में काम करने वाली महिला पत्रकारों के लिए एक ख़तरनाक मिसाल कायम करता है जहां प्रेस की स्वतंत्रता और महिलाओं के अधिकारों का उल्लंघन विभिन्न मौकों पर निरंतर किया जाता है।”

पाकिस्तान में मानवाधिकार कार्यकर्ता की हत्या | Human rights activist murdered in Pakistan | पाकिस्तान में पत्रकारों की हत्या | Journalists killed in Pakistan

पाकिस्तान के दक्षिण-पश्चिमी बलूचिस्तान प्रांत में कम से कम चार मानवाधिकार कार्यकर्ता इस साल मई महीने से मारे गए। वर्तमान में पाकिस्तान रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स 2020 वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम इंडेक्स में 180 देशों की सूची में 145 वें स्थान पर है। कमेटी टु प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (Committee to Protect Journalists) के अनुसार पिछले तीन दशकों में देश में 60 से अधिक पत्रकारों ने अपनी जान गंवाई है।

इससे पहले जून में बलूचिस्तान के क्वेटा के दो स्थानीय पत्रकारों सईद अली और अब्दुल मतीन को चमन क्षेत्र में सुरक्षा बलों ने कथित तौर पर पीटा था जिन्होंने उन पर ट्रैफिकिंग और सीमा पार से तस्करी में शामिल होने का आरोप लगाया था। रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स (आरएसएफ) ने इस घटना को “इस क्षेत्र से रिपोर्टिंग करने वाले पत्रकारों के ख़िलाफ़ उत्पीड़न करने को लेकर सुरक्षा बलों के प्रतिनिधियों के लिए पूरी तरह से अस्वीकार्य” क़रार दिया था।

स्रोत- साभार – न्यूज़क्लिक

Pakistan, murder case,Shaheena Shaheen Baloch, journalist murder,Human right,

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations