Home » Latest » योगी का पेपरलेस बजट तो ‘कागजी’ निकला, न तो महंगाई घटेगी, न उद्योग-धंधे बढ़ेंगे : माले
CPI ML

योगी का पेपरलेस बजट तो ‘कागजी’ निकला, न तो महंगाई घटेगी, न उद्योग-धंधे बढ़ेंगे : माले

लखनऊ, 22 फरवरी। भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा आज विधानसभा में टैबलेट से प्रस्तुत वर्ष 2021-22 के पेपरलेस बजट की आलोचना करते हुए कहा है कि इससे न तो कमरतोड़ महंगाई घटेगी, न प्रदेश में कोई नया उद्योग ही लगेगा। कोरोना काल में भारी संख्या में बेरोजगार हुए लोगों और बेरोजगारी से जूझ रहे युवाओं के सम्मानजनक रोजगार लिए कोई योजना बजट में नहीं है। न ही गरीबों के लिए ठोस राहत पहुंचाने की व्यवस्था है। लिहाजा विकास की ठोस योजनाओं से वंचित यह बजट महज ‘कागजी’ खानापूरी है।

पार्टी के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने सोमवार को बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए उक्त बातें कहीं।

उन्होंने कहा कि प्रदेशवासियों को उम्मीद थी कि पेट्रोल-डीजल-गैस की कीमतों में जो आग लगी है, उससे प्रदेश सरकार अपने करों में कटौती कर राहत दिलाएगी। तेल के बढ़े दामों में बड़ा हिस्सा तो प्रदेश सरकार के टैक्स का है। इसके चलते महंगाई भी तेजी से बढ़ी है। मगर बजट प्रस्तुत करते हुए योगी सरकार ने प्रदेशवासियों की इन कठिनाइयों के प्रति संवेदनहीनता का ही परिचय दिया है। उन्होंने सवाल किया कि बीमारु राज्यों में शामिल यूपी की सेहत आखिर कब सुधरेगी? इसका कोई विजन बजट में नहीं है।

उन्होंने कहा कि प्रदेश योगी सरकार से छुटकारा चाहता है। इसलिए हो सकता है कि अगले साल चुनाव बाद यह सरकार दोबारा सत्ता में न लौट पाए। इस मायने में यह योगी सरकार का आखिरी बजट हो सकता है।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

gairsain

उत्तराखंड की राजधानी का प्रश्न : जन भावनाओं से खेलता राजनैतिक तंत्र

Question of the capital of Uttarakhand: Political system playing with public sentiments उत्तराखंड आंदोलन की …

Leave a Reply