पप्पू ने पूछा – प्रधानमंत्री जी, पुलवामा हमला संयोग था, या प्रयोग !

Pappu Yadav asked – Prime Minister, Pulwama attack was a coincidence or experiment!

नई दिल्ली, 14 फरवरी 2020. पुलवामा आतंकी हमले की पहली बरसी (First anniversary of Pulwama terror attack) पर आज मोदी सरकार सभी के निशाने पर रही। सुबह होते ही पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोला तो शाम होते-होते बिहार के मधेपुरा से पूर्व सांसद और जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव (Pappu Yadav, former MP from Madhepura in Bihar and President of Jan Adhikar Party) ने सीधे सीधे प्रधानमंत्री से पूछ लिया कि “पुलवामा हमला संयोग था, या, प्रयोग!”

श्री यादव ने ट्वीट किया,

“प्रधानमंत्री जी

पुलवामा हमला संयोग था, या, प्रयोग! क्या था?

एक वर्ष बीत गए, कब पता चलेगा कि आम चुनाव के पहले यह संयोग से हुआ या, किसका यह वहशियाना प्रयोग था?

44 जवानों के परिजनों को कब पता चलेगा कि उनके अपने किसी संयोग के शिकार हुए या, किन-किन लोगों ने मिलकर इस प्रयोग को अंजाम दिया ?”

बता दें राहुल गांधी ने सुबह ट्वीट किया था,

“आज जब हम #PulwamaAttack में हमारे 40 CRPF शहीदों को याद करते हैं, तो हम पूछें:

हमले से सबसे ज्‍यादा फायदा किसको हुआ?

हमले की जांच का नतीजा क्‍या निकला?

सुरक्षा में चूक की वजह से हमला हुआ, उसके लिए बीजेपी सरकार में किसे जिम्‍मेदार ठहराया गया?”

यह भी पढ़ें – पुलवामा का सच सामने नहीं आएगा क्योंकि “चौकीदार चोर ही नहीं हत्यारा भी है” – रामेंद्र जनवार

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations