पप्पू यादव ने येदयुरप्पा को धमकाया, हिम्मत कैसे हुई बिहारी को बंधक बनाने की! 10000 मुकदमा दर्ज कराएंगे

Pappu Yadav threatens Yeddyurappa, how dare he take Bihari hostage! 10000 will file a lawsuit

नई दिल्ली, 07 अप्रैल 2020. जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व मधेपुरा (बिहार) से पूर्व सांसद (National President of Jan Adhikar Prty & Ex-MP from Madhepura (Bihar).) राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरुप्पा को चेतावनी दी है कि अगर कर्नाटक में बंधक बनाए गए बिहार के मजदूरों को घर नहीं आने दिया गया तो उनके खिलाफ दस हजार मुकदमे दर्ज कराएंगे।

श्री यादव ने ट्वीट किया,

“CM येदयुरप्पा,कर्नाटक

आप बिहार के सारे मज़दूरों को उनकी मर्जी के अनुसार घर आने दो,उनके आने की पूरी व्यवस्था सुनिश्चित करें।

वरना आपके खिलाफ अपहरण,जबरन बंधक बनाने, बंधुआ मज़दूरी उन्मूलन अधिनियम के तहत 10000 मुकदमा दर्ज कराएंगे।

हिम्मत कैसे हुई बिहारी को बंधक बनाने की!

@BSYBJP”

बता दें कि मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बैंग्लरू में बंधक बना कर बिहार व झारखंड के मजदूरों से जबरन काम कराया जा रहा है। काम न करने की सूरत में उनके साथ बर्बरतापूर्ण व्यवहार किया जा रहा है। उन्हें बुरे तरीके से मारा-पीटा जा रहा है।

इससे पहले पप्पू यादव ने ट्वीट किया था,

” बिहारी बंधुआ हैं क्या?
जवाब दो PM मोदी!

फिर हिम्मत कैसे हुई कर्नाटक के CM येदयुरप्पा की बिहार के मज़दूरों को बंगलुरू से लाने वाली 5 ट्रेन को रद्द करने की? नीतीश जी थोड़ी भी गैरत बची है तो इस्तीफा दो!

आखिर कैसे बिहारी लोगों को उनकी मर्जी के बिना बिल्डर लॉबी के दबाव में रोक लिया?”

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations