सेनेगल के विश्व कप हीरो पापा बाउबा डिओप का निधन, फीफा ने जताया शोक

सेनेगल के महान फुटबाल खिलाड़ी पापा बाउबा डिओप (Senegal legend Papa Bouba Diop) का 42 साल की उम्र में निधन हो गया। डिओप ने अपने देश के लिए 63 मैच खेले हैं। उन्होंने फीफा विश्व कप-2002 में टीम के पहले मैच में टीम की ऐतिहासिक जीत में गोल कर टीम को फ्रांस के खिलाफ 1-0 से जीत दिलाई थी।

Photo tweeted by Fifa

नई दिल्ली, 30 नवंबर 2020. सेनेगल के महान फुटबाल खिलाड़ी पापा बाउबा डिओप (Senegal legend Papa Bouba Diop) का 42 साल की उम्र में निधन हो गया। डिओप ने अपने देश के लिए 63 मैच खेले हैं। उन्होंने फीफा विश्व कप-2002 (FIFA World Cup-2002) में टीम के पहले मैच में टीम की ऐतिहासिक जीत में गोल कर टीम को फ्रांस के खिलाफ 1-0 से जीत दिलाई थी।

फीफा ने रविवार शाम को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से इस बात की पुष्टि की।

फीफा ने ट्वीट में लिखा,

“सेनेगल के महान खिलाड़ी बाउबा डिओप के निधन की खबर सुनकर दुखी हैं। एक बार विश्व कप में बना हीरो हमेशा हीरो रहता है।”

इसी ट्विटर थ्रेड में फीफा ने कहा,

“डिओप ने कई उपलब्धियां हासिल कीं। वह 2002 विश्व कप में पहला गोल करने के लिए याद किए जाएंगे। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे।”

सेनेगल के राष्ट्रपति मैक्की साल (Senegal President MacKy Sall) ने ट्वीट किया,

“पापा बाउबा डिओप के निधन सेनेगल का बहुत बड़ा नुकसान है।”

उन्होंने लिखा,

“मैं महान फुटबाल खिलाड़ी को श्रद्धांजलि देता हूं। उनकी प्रतिभा के कारण सभी लोग उनका सम्मान करते थे। उन्हें 2002 में किए गए उनके प्रदर्शन के लिए याद किया जाता है। मैं उनके परिवार और फुटबाल जगत के साथ संवेदना व्यक्त करता हूं।”

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
देशबन्धु: Deshbandhu is a newspaper with a 60 years standing, but it is much more than that. We take pride in defining Deshbandhu as ‘Patr Nahin Mitr’ meaning ‘Not only a journal but a friend too’. Deshbandhu was launched in April 1959 from Raipur, now capital of Chhattisgarh, by veteran journalist the late Mayaram Surjan. It has traversed a long journey since then. In its golden jubilee year in 2008, Deshbandhu started its National Edition from New Delhi, thus, becoming the first newspaper in central India to achieve this feet. Today Deshbandhu is published from 8 Centres namely Raipur, Bilaspur, Bhopal, Jabalpur, Sagar, Satna and New Delhi.
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations