mona agarwal

पीहर

ब्याह कर क्या आई, सब पीछे ही छूट गया

अम्मा पुकारती थी मुझे उनकी चिड़िया,

तो बाबुल का तो

कलेजा ही थी मैं, उनकी रानी बिटिया!

हरदम जेहन में रहता मेरे,

वो मिट्टी की मुंडेरे,

और टूटा – फूटा सा वो छज्जा।

हाँ, लेती आई थी मैं

दो मुट्ठी मिट्टी, उस आँगन की मेरे साथ

लेकर पूरा सा विश्वास, कि रास आ जाए उसे

नयी हवा, धूप, पानी और आकाश !

बड़ी उमंगों से फैलाया मैंने

उस मिट्टी को, यहाँ की बीच अँगनियां

फतह हासिल कर मैंने,

या

गोल्ड मेडल कोई मुझे मिल गया ?

क्या ही कहना, जो गुलमोहर के पौधे सा दिल मेरा,

उसमें, आज

यहाँ आखिरकार खिल गया!

मोना अग्रवाल

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में Guest writer

Check Also

opinion debate

‘आजादी का अमृत महोत्सव’ में कहाँ है खेतिहर मज़दूर

आज़ादी का ख्याल ही बहुत खूबसूरत है। हालांकि यह बात अलग है कि हमारे देश …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.