Home » Latest » लोग अपने झूठ से हार जाते हैं, अक्सर
Sara Malik, सारा मलिक, लेखिका स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।

लोग अपने झूठ से हार जाते हैं, अक्सर

अपनी-अपनी जगह सही

पता नहीं किसी बात पर दो झूठे,

बहुत देर से अड़े हुए थे

 सही और सच के लिए पूरी ताकत से खड़े हुए थे

 मन से, दिमाग से,  

 चुपचाप दोनों को अलग-अलग सुन रही थी

आमतौर पर लोग सच से हारते नहीं हैं,

क्योंकि वो इतने बहादुर नहीं होते,

इसलिए लोग अपने झूठ से हार जाते हैं, अक्सर

कुछ देर बाद

दोनों एक दूसरे से हंसते हुए बोले

भाई !

आप अपनी जगह सही हो, और मैं अपनी जगह,

 हम इस बहस में किस लिए फंसे हुए हैं?

दोस्त होकर, टाइम खराब कर रहे हैं

मैं डर गई और सोचने लगी उन्हें देखकर,

इन दोनों ने मिलकर सच को मार तो नहीं डाला

मैंने कहा उनसे

आप दोनों की ये सही जगह

 अलग-अलग और एक साथ

 दोनों तरह से, देखना चाहती हूं

यह सुनकर वह दोनों मुझे देखते हुए यूं  उठे, कि जैसे

 ना मैं समाज का हिस्सा हूं ना नागरिक

इसलिए भूख, प्यास और बेरोज़गारी, मेरी ज़रूरतों पर

सरकार की कोई जवाबदेही बनती ही कहां है?

सारा मलिक

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Coronavirus Outbreak LIVE Updates, coronavirus in india, Coronavirus updates,Coronavirus India updates,Coronavirus Outbreak LIVE Updates, भारत में कोरोनावायरस, कोरोना वायरस अपडेट, कोरोना वायरस भारत अपडेट, कोरोना, वायरस वायरस प्रकोप LIVE अपडेट,

रोग-बीमारी-त्रासदी पर बंद हो मुनाफाखोरी और आपदा में अवसर, जीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग

जीवन रक्षक दवाओं पर अनिवार्य-लाइसेंस की मांग जिससे कि जेनेरिक उत्पादन हो सके Experts demand …

Leave a Reply