Home » Latest » लोग अपने झूठ से हार जाते हैं, अक्सर
Sara Malik, सारा मलिक, लेखिका स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।

लोग अपने झूठ से हार जाते हैं, अक्सर

अपनी-अपनी जगह सही

पता नहीं किसी बात पर दो झूठे,

बहुत देर से अड़े हुए थे

 सही और सच के लिए पूरी ताकत से खड़े हुए थे

 मन से, दिमाग से,  

 चुपचाप दोनों को अलग-अलग सुन रही थी

आमतौर पर लोग सच से हारते नहीं हैं,

क्योंकि वो इतने बहादुर नहीं होते,

इसलिए लोग अपने झूठ से हार जाते हैं, अक्सर

कुछ देर बाद

दोनों एक दूसरे से हंसते हुए बोले

भाई !

आप अपनी जगह सही हो, और मैं अपनी जगह,

 हम इस बहस में किस लिए फंसे हुए हैं?

दोस्त होकर, टाइम खराब कर रहे हैं

मैं डर गई और सोचने लगी उन्हें देखकर,

इन दोनों ने मिलकर सच को मार तो नहीं डाला

मैंने कहा उनसे

आप दोनों की ये सही जगह

 अलग-अलग और एक साथ

 दोनों तरह से, देखना चाहती हूं

यह सुनकर वह दोनों मुझे देखते हुए यूं  उठे, कि जैसे

 ना मैं समाज का हिस्सा हूं ना नागरिक

इसलिए भूख, प्यास और बेरोज़गारी, मेरी ज़रूरतों पर

सरकार की कोई जवाबदेही बनती ही कहां है?

सारा मलिक

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply