Home » हस्तक्षेप » शब्द » तल्खियां और दर्द -ए- कश्मीर
Mohd. Rafi Ata मौहम्मद रफीअता डैलीगेट दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी व टीवी पैनलिस्ट

तल्खियां और दर्द -ए- कश्मीर

तल्खियां और दर्द -ए- कश्मीर,

————————-?

मैं कश्मीर हूं दोस्तों मैं जन्नत निशान हूंं,

हिस्सा हूं हिंद का मैं,मैं इसकी शान हूं,

वादी में मेरी क्यारीयां फूलों की खिल रहीं,

गद्दार मैं नही दोस्तों, मैं हिंदोस्तान हूं,,,,,,,,

 

पर आज जिस तरह से सताया गया मुझे,

पहचान मेरी छीन के मिटाया गया मुझे,

मेरी ही सर जमीन है, दबाया गया मुझे,

बेटा मैं हिंद का हूं तो मैं भी तो जान हूं,

मैं कश्मीर हूं दोस्तों मैं जन्नत निशान हूं,,,,,,,,,,,,

 

जम्हूरियत को मैंने जिंदा रखा सदा,

कश्मीरियत को मैंने जिंदा रखा सदा,

नफरत का मेरे दिल में कोई निशां नही,

मुहब्बत की कैफियत को जिंदा रखा सदा,

तेरा नहीं तो ये बता अब मैं किसका मान हूं,

मैं कश्मीर हूं दोस्तों मैं जन्नत निशान हूं ,,,,,,,,,,,,,

 

सरहद नही हूं मैं, मैं गुलशन हूं हिंद का,

मैं ही तो हूं यहां निगहेबान हर परिंद का,

कयामत से भी लड़ के जिंदा रहा हूं मैं,

जिंदा निशां हूं दोस्तों सरजमीन ऐ हिंद का,

तुम ही नहीं मुहब्ब -ए- वतन मैं भी महान हूं

मैं कश्मीर हूं दोस्तों मैं जन्नत निशान हूं,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

 

तु कुछ कहे “अता” मेरे ही दिल की बात है,

सदियों से ये वतन ही मेरी भी जात है,

फिरदौस हूं जमीं की मैं, कहता है ये जहां,

हर और यहां जिंदगी हरसू हयात है,

पैगाम ऐ हक हूं मैं मगर अमन का पयाम हूं,,

मैं कश्मीर हूं दोस्तों मैं जन्नत निशान हूं,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

 

मौहम्मद रफीअता

डैलीगेट

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी

व टीवी पैनलिस्ट.

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

pm narendra modi

कृषि कानूनों का निरस्तीकरण : संसद को आवारा होने से रोक दिया किसान आंदोलन ने

Farmers’ movement stopped Parliament from being a vagabond The Farm Laws Repeal Bill, 2021 के …