मोदी-शाह की विफलता के चलते इस्लामिक राष्ट्र के पीएम इमरान को सेक्युलर भारत के अंदरूनी मसले में टाँग अड़ाने का मिला मौका

PM Imran of Islamic nations interfere in the internal issues of Secular India

नई दिल्ली, 22 दिसंबर 2019. इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गॉह मंत्री अमित शाह की घरेलू मोर्चे पर विफलता ही कहा जाएगा कि अब इस्लामिक राष्ट्र पाकिस्तान का प्रधानमंत्री भी भारत को बहुलतावाद पर उपदेश दे रहा है।

इमरान खान ने लगातार तीन ट्वीट किए। उन्होंने लिखा,

“मोदी सरकार के पिछले 5 वर्षों में, भारत अपने हिंदूवादी अतिवादी फासीवादी विचारधारा के साथ हिंदू राष्ट्र की ओर बढ़ रहा है। अब नागरिक संशोधन अधिनियम के साथ, उन सभी भारतीयों को, जो एक बहुलवादी भारत चाहते हैं, विरोध करने लगे हैं और यह एक जन आंदोलन बन रहा है।“

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा,

“इसके साथ ही भारतीय कब्जे वाले रम्मू-कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा घेराबंदी जारी है और जब इसे उठाया जाएगा, तब एक जनसंहार की उमामीद की जा सकती है। जैसे-जैसे ये विरोध बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे भारत से पाक को खतरा भी बढ़ता जा रहा है। भारतीय सेना प्रमुख का बयान एक फाल्स फ्लैग ऑपरेशन की हमारी चिंताओं को जोड़ता है।“

इमरान ने अगले ट्वीट में जोड़ा,

“मैं पिछले कुछ समय से अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को लिए चेतावनी दे रहा हूं और फिर से दोहरा रहा हूं :  अगर भारत अपनी घरेलू अराजकता से ध्यान हटाने के और हिंदू राष्ट्रवाद को बढ़ाने के लिए युद्ध उन्माद को भड़काने के लिए इस तरह का ऑपरेशन करता है, तो पाक के पास प्रतिक्रिया करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।“

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations