भेड़िया अब दो पैरों पर चल सकता है/ दे सकता है सत्संग शिविर में प्रवचन

चुप्पी साधे सब जीव

सुरक्षित हो जाने के भ्रम में

अंधेरे बिलों में छिप कर

राहत की सांस ले रहे हैं

 

बाहर आदमखोर भेड़िया

हंस रहा है

इसकी ख़बर नहीं है उन्हें

 

भेड़िया अब दो पैरों पर चल सकता है

दे सकता है सत्संग शिविर में प्रवचन

सुना सकता है बच्चों को कहानी

शिकार को जाल में फंसाने के लिए

कुछ भी कर सकता है वो

 

वह अब अपने खून भरे नुकीले पंजों को

खुर पहनकर छिपा कर चलता है

 

इनदिनों वो तमाम आदमखोर जानवरों का

मुखिया बन चुका है

आप भी जानते हैं कि अब वह गुफा के भीतर

कब और क्यों जाता है

 

हम बार -बार आगाह कर रहे हैं

कि जंगल में आग लग चुकी है

और आदमखोर भेड़िया अपने साथियों के साथ

मानव बस्तियों की तरफ बढ़ रहा है

अफ़सोस , कि लोग मुझे

आसमान गिरा , आसमान गिरा कहने वाला

खरगोश समझ रहे हैं !

नित्यानन्द गायेन

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations