भेड़िया अब दो पैरों पर चल सकता है/ दे सकता है सत्संग शिविर में प्रवचन

नित्यानन्द गायेन Nityanand Gayen

चुप्पी साधे सब जीव

सुरक्षित हो जाने के भ्रम में

अंधेरे बिलों में छिप कर

राहत की सांस ले रहे हैं

 

बाहर आदमखोर भेड़िया

हंस रहा है

इसकी ख़बर नहीं है उन्हें

 

भेड़िया अब दो पैरों पर चल सकता है

दे सकता है सत्संग शिविर में प्रवचन

सुना सकता है बच्चों को कहानी

शिकार को जाल में फंसाने के लिए

कुछ भी कर सकता है वो

 

वह अब अपने खून भरे नुकीले पंजों को

खुर पहनकर छिपा कर चलता है

 

इनदिनों वो तमाम आदमखोर जानवरों का

मुखिया बन चुका है

आप भी जानते हैं कि अब वह गुफा के भीतर

कब और क्यों जाता है

 

हम बार -बार आगाह कर रहे हैं

कि जंगल में आग लग चुकी है

और आदमखोर भेड़िया अपने साथियों के साथ

मानव बस्तियों की तरफ बढ़ रहा है

अफ़सोस , कि लोग मुझे

आसमान गिरा , आसमान गिरा कहने वाला

खरगोश समझ रहे हैं !

नित्यानन्द गायेन

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें