Home » Latest » आज हाकिम ये कौन आया है/ बनके सैय्याद जो गुलशन पर काली आंधी की तरह छाया है
Farmers Protest

आज हाकिम ये कौन आया है/ बनके सैय्याद जो गुलशन पर काली आंधी की तरह छाया है

एक वतन परस्त का अहद देश के किसान के लिये

ये जुनून-ए-इश्क-ए-वतन है तो डरना कैसा,

सर्द रातों मे डटे है मुजाहिद देखो,

गर जो सैय्याद से डर जायें तो मरना कैसा,

मेरी पुश्तें भी यहीं पैदा हुईं यहीं जज्ब हुईं,

आज हाकिम ये कौन आया है,

बनके सैय्याद जो गुलशन पर काली आंधी की तरह छाया है,

खौफ के पांव से जो दहशत को मचाता है,

मां बहनों बेटियों को जो खून सा रुलाता है,

ऐसा दहशत का मुहाफिज भी देखो रहनुमा कहलाता है,

मैं भी गांधी की विरासत हूं, तो सहमना कैसा,

ये जुनून-ए-इश्क वतन है तो फिर डरना कैसा,

कौन है वो जो मुझसे मांगेगा गवाही मेरी,

मेरी मिट्टी में मेरे ही लहू की स्याही का सुबूत?

कौन होता है कि मैं उसको दिखाऊं ये सुबूत,

कौन है वो जिसको मैं साबित भी करुं,

ये चमन मेरा है इसकी गवाही दूं

मेरे जज्बात वतन की खातिर क्या है वो इन हवाओं में है,

इस चमन शादाब की रंगीन फिजाओं में है,

जाओ की जरा महक तो देखो यहां मजारात की और समाधि की,

हर जगह तुझको मिलूंगा मैं ही मिलूंगा मैं ही… मिलूंगा मैं ही,

          मौहम्मद रफी अता

Mohd. Rafi Ata मौहम्मद रफीअता डैलीगेट दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी व टीवी पैनलिस्ट
मौहम्मद रफीअता
डैलीगेट
दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी
व टीवी पैनलिस्ट

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

Dr. Ram Puniyani - राम पुनियानी

हंसी सबसे अच्छी दवा है : मुनव्वर फारूकी

स्टेंडअप कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी (Standup Comedian Munawwar Farooqui) बेंगलुरू में एक परोपकारी संस्था के लिए …

Leave a Reply