Home » Latest » आज हाकिम ये कौन आया है/ बनके सैय्याद जो गुलशन पर काली आंधी की तरह छाया है
Farmers Protest

आज हाकिम ये कौन आया है/ बनके सैय्याद जो गुलशन पर काली आंधी की तरह छाया है

एक वतन परस्त का अहद देश के किसान के लिये

ये जुनून-ए-इश्क-ए-वतन है तो डरना कैसा,

सर्द रातों मे डटे है मुजाहिद देखो,

गर जो सैय्याद से डर जायें तो मरना कैसा,

मेरी पुश्तें भी यहीं पैदा हुईं यहीं जज्ब हुईं,

आज हाकिम ये कौन आया है,

बनके सैय्याद जो गुलशन पर काली आंधी की तरह छाया है,

खौफ के पांव से जो दहशत को मचाता है,

मां बहनों बेटियों को जो खून सा रुलाता है,

ऐसा दहशत का मुहाफिज भी देखो रहनुमा कहलाता है,

मैं भी गांधी की विरासत हूं, तो सहमना कैसा,

ये जुनून-ए-इश्क वतन है तो फिर डरना कैसा,

कौन है वो जो मुझसे मांगेगा गवाही मेरी,

मेरी मिट्टी में मेरे ही लहू की स्याही का सुबूत?

कौन होता है कि मैं उसको दिखाऊं ये सुबूत,

कौन है वो जिसको मैं साबित भी करुं,

ये चमन मेरा है इसकी गवाही दूं

मेरे जज्बात वतन की खातिर क्या है वो इन हवाओं में है,

इस चमन शादाब की रंगीन फिजाओं में है,

जाओ की जरा महक तो देखो यहां मजारात की और समाधि की,

हर जगह तुझको मिलूंगा मैं ही मिलूंगा मैं ही… मिलूंगा मैं ही,

          मौहम्मद रफी अता

Mohd. Rafi Ata मौहम्मद रफीअता डैलीगेट दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी व टीवी पैनलिस्ट
मौहम्मद रफीअता
डैलीगेट
दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी
व टीवी पैनलिस्ट

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

shahnawaz alam

ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर सर्वे : मीडिया और न्यायपालिका के सांप्रदायिक हिस्से के गठजोड़ से देश का माहौल बिगाड़ने की हो रही है कोशिश

फव्वारे के टूटे हुए पत्थर को शिवलिंग बता कर अफवाह फैलायी जा रही है- शाहनवाज़ …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.