Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » दुनिया में लोग जेबों से तोले जाते हैं…
डॉ. कविता अरोरा (Dr. Kavita Arora) कवयित्री हैं, महिला अधिकारों के लिए लड़ने वाली समाजसेविका हैं और लोकगायिका हैं। समाजशास्त्र से परास्नातक और पीएचडी डॉ. कविता अरोरा शिक्षा प्राप्ति के समय से ही छात्र राजनीति से जुड़ी रही हैं।

दुनिया में लोग जेबों से तोले जाते हैं…

…जेब

… पैन्ट की साइडों में शर्ट के ऊपर दिल के दाँये बाँये

ज़रा सी जो नज़र आती है

दरअसल औक़ात बताती है…

रूप, रंग, गुन, संस्कार इस जेब के आगे सब बेकार…

अदब लिहाज़ के सारे ताले इसी से खोले जाते हैं…

दुनिया में लोग जेबों से तोले जाते हैं…

भरी जेब वाले देवों में देव..

रिश्तों की सूखी जड़े सींचती है जेब…

बग़ैर जेब वाला शख़्स ज्यूँ बिना गुर्दे सा…

मखमली रिश्तों में टाट के परदे सा…

जेबों से आव-भगत अगुवाई होती है..

इंसानों की वैल्यू जेब से ही डिसाइड होती है…

ये जेब बड़े से बड़ा क्राइम दबा लेती है

रईसों के तमाम ऐब छुपा लेती है…

जेब खुद की भराई के लिये तरह-तरह के हथकंडे अपनाती है..

नोटों की दीवारों में ज़िंदा इंसानियत चिनी जाती है..

फटी जेब वालों पे सब हँसते हैं

कमबख़्त जेब ना हो तो लोग रोटियों को तरसते हैं…

जान-ओ-ईमान सब सस्ता है

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! 10 वर्ष से सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 
 भारत से बाहर के साथी पे पल के माध्यम से मदद कर सकते हैं। (Friends from outside India can help through PayPal.) https://www.paypal.me/AmalenduUpadhyaya

ख़ाली जेबों पे पड़ा झुग्गियों का रस्ता है…

ये जो बंगले कार चेहरों का जमाल है तमाम रौनक़ें फ़क़त जेब का कमाल है ..

जेबों-जेबों में भी भेद होता है

भरी जेब वालों का ख़ून सफेद होता है…

तल्ख़ लहज़े चमकते लिबास नंगी जुबान है..

दुनिया में जेब वालों की इक ये भी पहचान है…

अक्सर जेब जेब वाले इक ही जमात में रहते हैं..

इनके आगे बिना जेब वाले औक़ात में रहते हैं…

जेबों से लोगों के लहजे बदलते हैं..

दुनिया के सब काम इन जेबों से चलते हैं…

बग़ैर जेबों के इश्क़ विश्क़ भी नहीं टिकते..

जेबों के आगे सब जज्बात हैं बिकते…

खुदा भी इन जेब वालों से ही डरता है..

भरी तिजोरीयो में बंद पहरेदारी करता है…

वो दिन और थे..

जब कच्ची मिट्टी के ठौर थे…

था ख़ुशियों का ख़ज़ाना..

ख़ाली जेबें हुआ करती थीं अपनी और मुट्ठी में था ज़माना…

डॉ. कविता अरोरा

हस्तक्षेप के संचालन में मदद करें!! सत्ता को दर्पण दिखाने वाली पत्रकारिता, जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, के संचालन में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.
 

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

#CoronavirusLockdown, #21daylockdown , coronavirus lockdown, coronavirus lockdown india news, coronavirus lockdown india news in Hindi, #कोरोनोवायरसलॉकडाउन, # 21दिनलॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार, कोरोनावायरस लॉकडाउन भारत समाचार हिंदी में, भारत समाचार हिंदी में,

महिलाओं के लिए कोई नया नहीं है लॉकडाउन

महिला और लॉकडाउन | Women and Lockdown महिलाओं के लिए लॉकडाउन कोई नया लॉकडाउन नहीं …

Leave a Reply