Home » Latest » कोरोना पर अंशु शरण की दो गजब कविताएं
Coronavirus CDC

कोरोना पर अंशु शरण की दो गजब कविताएं

कोरोना पर अंशु शरण की दो गजब कविताएं

 

1.

## कोरोना ##

 

जिनका भविष्य सम्भावनाओं से भरा  है

वे डर रहें हैं ।

जिन्होंने ताउम्र तकलीफें देखी

और जिनका जीवन कूड़े के ढेर या सड़क किनारे बीता हो

वे नहीं डर रहे हैं

वे तो हररोज मर रहे हैं ।

और सबसे बड़ी बात

राजधानियों को बसाने के बावजूद

इस संकट काल में

ये

भूखे और बे-दर रहे हैं ।

 

 

2.

*उपलब्धियाँ*

अंशु शरण
अंशु शरण

जो बच्चे खेल नहीं पाए

वो गुब्बारे बेच रहे हैं

जो बूढ़े पढ़ नहीं पाए

वो कलम बेच रहे हैं

जिसके पास छत नहीं

वो छाता बेच रहा है

और सरकार अपनी इन उपलब्धियों को दिखाने के लिए

चौराहों पर ट्रैफिक लाइट लगवा रही है |

अंशु शरण

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

COVID-19 news & analysis

यूनिसेफ ने बताया, घर पर रखते हुए कोविड-19 संक्रमण से कैसे निपटे?

UNICEF explains, how to deal with COVID-19 infection while at home? घबराएँ नहीं, शांत रहें …