कोरोना पर अंशु शरण की दो गजब कविताएं

Coronavirus CDC

कोरोना पर अंशु शरण की दो गजब कविताएं

 

1.

## कोरोना ##

 

जिनका भविष्य सम्भावनाओं से भरा  है

वे डर रहें हैं ।

जिन्होंने ताउम्र तकलीफें देखी

और जिनका जीवन कूड़े के ढेर या सड़क किनारे बीता हो

वे नहीं डर रहे हैं

वे तो हररोज मर रहे हैं ।

और सबसे बड़ी बात

राजधानियों को बसाने के बावजूद

इस संकट काल में

ये

भूखे और बे-दर रहे हैं ।

 

 

2.

*उपलब्धियाँ*

अंशु शरण
अंशु शरण

जो बच्चे खेल नहीं पाए

वो गुब्बारे बेच रहे हैं

जो बूढ़े पढ़ नहीं पाए

वो कलम बेच रहे हैं

जिसके पास छत नहीं

वो छाता बेच रहा है

और सरकार अपनी इन उपलब्धियों को दिखाने के लिए

चौराहों पर ट्रैफिक लाइट लगवा रही है |

अंशु शरण

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें