आधी रात को पुलिस का हमला : पैंथर्स सुप्रीमो ने दौरा कर पीड़ितों का जाना हाल

Prof. Bhim Singh

पैंथर्स सुप्रीमो का कच्ची छावनी जम्मू में पुलिस द्वारा आधी रात के हमले के पीड़ितों का दौरा

जम्मू तवी, 15 जून, 2020. पैंथर्स पार्टी के अपने वरिष्ठ नेताओं के साथ पैंथर्स सुप्रीमो प्रो. भीम सिंह ने कच्ची छावनी, जम्मू में पुलिस द्वारा आधी रात के हमले में पीड़ित परिवारों का दौरा किया, जिनके घरों, दुकानों को तोड़ दिया गया और परिवार के सदस्यों को आतंकित किया। यह उपराज्यपाल शासन में जम्मू के लोगों के लिए एक उपहार है, जो जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन के तहत काम कर रहा है, जिसका राज्य भारतीय संसद द्वारा 5 अगस्त, 2019 को ध्वस्त करके 200 साल पुराने जम्मू-कश्मीर राज्य को दो केंद्रशासित प्रदेशों, लद्दाख और जम्मू और कश्मीर में परिवर्तित कर दिया गया।

प्रो. भीम सिंह के साथ श्री पी.के. गंजू, सुश्री अनीता ठाकुर, प्रताप सिंह एवं नेशनल पैंथर्स स्टूडेंट्स यूनियन के पूर्व अध्यक्ष और अन्य ने आज कच्ची छावनी रोड पर ध्वस्त दुकानों का दौरा किया। आसपास के स्थानीय दुकानदारों ने बताया कि पुलिस ने आधी रात को दुकानों पर हमला किया, जब परिवार सो रहे थे।

चश्मदीद गवाहों ने प्रो. भीम सिंह को बताया जो एक जानेमाने मानवाधिकार कार्यकर्ता भी हैं कि टूटी हुई दुकानों को पुलिस ने लगभग आधी रात को तोड़ा था, हालांकि उपराज्यपाल सरकार द्वारा रात 9 बजे कर्फ्यू लगाया गया था।

आगंतुकों ने आधी रात के इस कृत्य की पर्याप्त जानकारी एकत्र की हैं और निवासियों ने भारत के सर्वोच्च न्यायालय में जानेमाने वकील भारत के राष्ट्रपति को ज्ञापन लिखने और तत्काल ज्ञापन देने की सलाह दी है।

पैंथर्स सुप्रीमो ने कच्ची छावनी में आसपास के निवासियों से बात करने के बाद और दुकानदारों ने भारत के राष्ट्रपति को ज्ञापन उन निवासियों की ओर से सौंपने का फैसला किया है, जो अपने घरों को खो चुके हैं और पुरानी दुकानों को भारी नुकसान, घरेलू सामान और लाखों रुपये मूल्य के सामान भी ध्वस्त हो चुके हैं।

पैंथर्स पार्टी सुप्रीमो ने उपराज्यपाल श्री गिरीश चंद्र मुर्मू से इस स्थान का दौरा करने का आग्रह किया, जिस पर जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन के तहत पुलिस द्वारा हमला किया गया था। उन्होंने उपराज्यपाल से कच्ची छावनी का दौरा करने की कृपा करने पर उम्मीद जताई है, जो न्याय और कानून के हित में लोगों से सीधे बात करने के लिए राजभवन से केवल 10 मिनट की पैदल दूरी पर हैं।

यह समस्त जानकारी एक प्रेस विज्ञप्ति में दी गई है।

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें