पुलिस ने बच्चे को बेरहमी से पीटा, पत्रकार ने कहा- डीजीपी महोदय, ईश्वर से प्रार्थना करिए कि कभी आपके नाती-पोतो के साथ पुलिस ऐसा व्यवहार ना करे

Police beat the child mercilessly, journalist said- DGP, pray to God never to treat your grandson like this.

नई दिल्ली, 17 मई 2020. यूपी के बरेली से एक बच्चे को पुलिस द्वारा बेरहमी से पीटने की खबर ट्विटर पर वायरल हो रही है।

“भारत समाचार” न्यूज चैनल के एडिटर इन चीफ ब्रजेश मिश्रा (Brajesh Misra, Editor-in-Chief Bharat Samachar TV,) ने एक वीडियो क्लिप ट्विटर पर पोस्ट की, जिसमें एक बच्चा रोते हुए बता रहा है कि उसका सब्जी का ठेला गली में लगता है, उसके पापा नहाने चले गए थे, तो वह ठेले के पास खड़ा हो गया था। पुलिस वाले आए उन्होंने गंदी-गंदी गालियां दीं और मारा। वीडियो में देखा जा सकता है कि बच्चा अपनी नंगी पीठ पर पिटाई के निशान दिखा रहा है और संभवतः पिटाई से उसके हाथ में फ्रैक्चर भी हुआ है।

क्लिप ट्वीट करते हुए ब्रजेश मिश्रा ने लिखा –

“डीजीपी महोदय, ईश्वर से प्रार्थना करिए कि कभी आपके नाती-पोतो के साथ पुलिस ऐसा व्यवहार ना करे। इस मासूम बच्चे के लिए भारत समाचार के रिपोर्टर केक लेकर जाएंगे और इस प्यारे बच्चे के चेहरे पर मुस्कान लाएंगे। उसकी तस्वीर भी आपको भेजेंगे।“

यह खबर लिखे जाने तक इस ट्वीट के 3800 से अधिक रिट्वीट और दस हजार से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations