कोरोना के बाद की दुनिया : पहले से अधिक बढ़ सकता है ग्लोबल वार्मिंग का खतरा

Environment and climate change

Post-COVID economic stimulus risks locking in future for costly coal

The world after Corona: global warming may increase more than before

कोरोना महामारी ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को भी बुरी तरह प्रभावित किया है। इस महामारी से निपटने के एक उपाय के तौर पर दुनिया के बड़े हिस्से में किए गए लॉक डाउन से वायु प्रदूषण में राहत तो देखने में मिले, लेकिन अब चिंता यह सता रही है कि कोरोना त्रासदी के गुजर जाने के बाद जब दुनिया पटरी पर लौटना शुरू करेगी, तब पर्यावरण का क्या होगा ?

वित्तीय थिंक टैंक कार्बन ट्रैकर की आठ अप्रैल को जारी एक नई रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि चीन व अन्य राष्ट्र अगर वे COVID-19 महामारी के मद्देनजर अपनी अर्थव्यवस्थाओं को प्रोत्साहित करने की नई क्षमता का निर्माण करते हैं, तो वे दशकों तक पर्यावरण की शत्रु कोयला उत्पादित बिजली का उत्पादन बढ़ा सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप ग्लोबल वार्मिंग का खतरा पहले से अधिक बढ़ जाएगा

रिपोर्ट के सह लेखक और कार्बन ट्रैकर के सह प्रमुख मैट के मुताबिक COVID-19 महामारी के बाद चीन और अन्य सरकारों को अपनी अर्थव्यवस्थाओं को ठीक करने में मदद करने के लिए कोयला बिजली में निवेश करने के लिए लुभाया जा सकता है, लेकिन यह जोखिम उच्च स्तर पर हैजो वैश्विक जलवायु लक्ष्यों को कम कर देगा।

मैट सुझाव देते हैं कि अपनी अर्थव्यवस्थाओं में अरबों का निवेश करने और नई नौकरियां पैदा करने की आवश्यकता के साथ, सरकारों को  कोयले के प्लांट बंद कर स्वच्छ हरित ऊर्जा के विस्तार की योजना बनानी चाहिए।

जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र के इंटरगवर्नमेंटल पैनल (आईपीसीसी) के हालिया शोध के विश्लेषण के अनुसार, ग्लोबल वार्मिंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित करने के लिए आगामी वर्ष 2030 तक बिजली उत्पादन में वैश्विक कोयले का उपयोग तक 80% तक गिरना चाहिए।

अंतर्राष्ट्रीय नवीकरणीय ऊर्जा एजेंसी, इरैना के अनुसार, वैश्विक ऊर्जा प्रणाली का डीकार्बोनाइजेशन वैश्विक अर्थव्यवस्था के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर कर सकता है और वर्ष 2050 तक 28 मिलियन नौकरियां पैदा कर सकता है।

कार्बन ट्रैकर की रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन को 206GW क्षमता के नए कोयला आधारित पॉवर प्लांट्स पर 158 बिलियन डॉलर खर्च करने की योजना पर पुनर्विचार करना चाहिए क्योंकि “अक्षय ऊर्जा और बैटरी भंडारण आर्थिक विकास के अधिक व्यवहार्य और स्थायी स्रोत हैं”।

अमलेन्दु उपाध्याय

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें