Home » Latest » जुमे की नमाज के बाद कोरानावायरस से हिफाजत के लिए मस्जिदों में हुई दुआ
corona virus Symptoms and prevention. कोरोना वायरस लक्षण और रोकथाम.

जुमे की नमाज के बाद कोरानावायरस से हिफाजत के लिए मस्जिदों में हुई दुआ

Prayers in mosques for protection from Koranavirus after Friday prayers

लखनऊ, 6 मार्च 2020. चीन समेत कई देशों के लिए घातक बन चुका कोरानावायरस की दहशत के बीच आज यहां की विभिन्न मस्जिदों में जुमे की नमाज के बाद इस वायरस से हिफाजत के लिए खास दुआ की गई।

आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य ऐशबाग ईदगाह के इमाम मौलाना खालिद रशीद फरंगी ने जुमे की नमाज के बाद देश-दुनिया के तमाम लोगों की कोरोनावायरस से बचाव के लिए दुआ करवाई।

मौलाना फरंगी महली ने कहा कि कोरोनावायरस एक अजाब है और इसकी रोकथाम भी मुश्किल है। इसके मद्देनजर हमने जुमे की नमाज में खास दुआ की कि अल्लाह इस जानलेवा विषाणु से सभी की हिफाजत करे। इसके अलावा शहर की अन्य विभिन्न मस्जिदों में भी कोरोना से बचाव के लिए दुआ कराए जाने की खबर है।

गौरतलब है कि चीन से शुरू हुआ कोरोनावायरस का संक्रमण अब धीरे-धीरे दुनिया के विभिन्न देशों में फैल गया है। इसका असर भारत में होने लगा है। चीन में कोरोनावायरस के कारण अब तक 3,042 लोगों की मौत हो चुकी है।

हमारे बारे में hastakshep

Check Also

पलाश विश्वास जन्म 18 मई 1958 एम ए अंग्रेजी साहित्य, डीएसबी कालेज नैनीताल, कुमाऊं विश्वविद्यालय दैनिक आवाज, प्रभात खबर, अमर उजाला, जागरण के बाद जनसत्ता में 1991 से 2016 तक सम्पादकीय में सेवारत रहने के उपरांत रिटायर होकर उत्तराखण्ड के उधमसिंह नगर में अपने गांव में बस गए और फिलहाल मासिक साहित्यिक पत्रिका प्रेरणा अंशु के कार्यकारी संपादक। उपन्यास अमेरिका से सावधान कहानी संग्रह- अंडे सेंते लोग, ईश्वर की गलती। सम्पादन- अनसुनी आवाज - मास्टर प्रताप सिंह चाहे तो परिचय में यह भी जोड़ सकते हैं- फीचर फिल्मों वसीयत और इमेजिनरी लाइन के लिए संवाद लेखन मणिपुर डायरी और लालगढ़ डायरी हिन्दी के अलावा अंग्रेजी औऱ बंगला में भी नियमित लेखन अंग्रेजी में विश्वभर के अखबारों में लेख प्रकाशित। 2003 से तीनों भाषाओं में ब्लॉग

नरभक्षियों के महाभोज का चरमोत्कर्ष है यह

पलाश विश्वास वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं। आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की …