Home » हस्तक्षेप » आपकी नज़र » लड़कियों की हिमायत में प्रेमचंद
Munshi premchand

लड़कियों की हिमायत में प्रेमचंद

प्रेमचंद जयन्ती पर

प्रेमचंद का मानना था, “लड़कियों को अच्छी शिक्षा दी जाय और उन्हें संसार में अपना रास्ता आप बनाने के लिए छोड़ दिया जाय, उसी तरह जैसे हम अपने लड़कों को छोड़ देते हैं। उनको विवाहित देखने का मोह हमें छोड़ देना चाहिए और जैसे युवकों के विषय में उनके पथभ्रष्ट होने की परवाह नहीं करते, उसी प्रकार हमें लड़कियों पर भी विश्वास करना चाहिए। तब यदि वह गृहिणी -जीवन बसर करना चाहेंगी, तो अपनी इच्छानुसार अपना विवाह कर लेंगी, अन्यथा अविवाहित रहेंगी। और सच पूछो तो यही मुनासिब भी है।

हमें कोई अधिकार नहीं है, कि लड़कियों की इच्छा के विरूद्ध केवल रूढ़ियों के गुलाम बनकर, केवल भय से कि खानदान की नाक न कट जाये, लड़कियों को किसी न किसी के गले मढ़ दें। हमें विश्वास रखना चाहिए, कि लड़के अपनी रक्षा कर सकते हैं, तो लड़कियाँ भी अपनी रक्षा कर लेंगी।”

Premchand in girls’ support

प्रेमचंद और स्त्री समस्या विषय पर प्रोफेसर सुधा सिंह का व्याख्यान

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में Guest writer

Check Also

dr. prem singh

भारत छोड़ो आंदोलन : अगस्त क्रांति और भारत का शासक-वर्ग

भारत छोड़ो आंदोलन की 80वीं सालगिरह के अवसर पर (On the occasion of 80th anniversary …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.