सुबह-सुबह फिर प्रधानमंत्री मोदी ने किया आव्हान, आइए जनता कर्फ्यू का हिस्सा बनें

Prime Minister Narendra Modi on Sunday once again urged the countrymen to be part of the ‘Janata Curfew

नई दिल्ली, 22 मार्च 2020. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को देशवासियों से ‘जनता कर्फ्यू‘ का हिस्सा बनने का एक बार फिर आग्रह करते हुए कहा कि यह कोविड-19 से लड़ने में मजबूती प्रदान करेगा।

रिकॉर्ड किए हुए वीडियो में दिए गए संदेश के माध्यम से उन्होंने लोगों से सामाजिक दूरी बनाने एवं जनता कर्फ्यू का अनुसरण करने के साथ घर के अंदर ही रहने की अपील की।

प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट में कहा,

“जनता कर्फ्यू शुरू हो रहा है..मेरी विनती है कि सभी नागरिक इस देशव्यापी अभियान का हिस्सा बनें और कोरोना के खिलाफ लड़ाई को सफल बनाएं। हमारा संयम और संकल्प इस महामारी को परास्त करके रहेगा।”

दुनिया भर में फैले कोरोनावायरस महामारी से भारत भी प्रभावित है, इसके मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के लोगों से रविवार की सुबह 7 बजे से 9 बजे के बीच ‘जनता कर्फ्यू’ का अनुसरण करने का आग्रह किया था।

मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने विशेष संबोधन में कहा,

“आज मैं 22 मार्च, रविवार को सुबह 7 बजे से 9 बजे तक जनता कर्फ्यू के लिए देश के लोगों से अनुरोध कर रहा हूं।”

उन्होंने लोगों से इस ‘कर्फ्यू’ का पालन करने, सड़कों पर न निकलने या बाजारों में एकत्र न होने और अपने घरों के अंदर रहने का आग्रह किया।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि भारत में नोवल कोरोनावायरस (कोविड-19) के मामले शनिवार को बढ़कर 315 हो गए। वहीं सामने आए नए मामलों की संख्या 60 से अधिक हैं।

यह भी पढ़ें –

कोरोना से लड़ने के लिए पीएम मोदी के जनता कर्फ्यू आइडिया से हैरान हैं वैज्ञानिक और डॉक्टर, शर्मिंदा हैं अपनी पढ़ाई पर !

कोरोना वायरस : सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल के लिए क्या प्रधानमंत्री वाकई गंभीर हैं? इतने गंभीर संकट पर भी जुमलेबाजी !

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations