सरदार पटेल की पुण्यतिथि पर प्रधानमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

Prime Minister pays tribute on the death anniversary of Sardar Patel

नई दिल्ली, 15 दिसम्बर 2019. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को सरदार वल्लभ भाई पटेल की 69वीं पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। मोदी ने ट्वीट किया,

“महान सरदार पटेल की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि। अपने देश के प्रति उनकी असाधारण सेवा से हम हमेशा से प्रेरित हैं।”

देश के पहले उप प्रधानमंत्री सरदार पटेल का निधन (Death of Sardar Patel) 15 दिसंबर 1950 को हुआ था।

भारत के लौह पुरुष के नाम से प्रसिद्ध पटेल का कई रियासतों का भारत में विलय कराने में बहुत योगदान था।

यह भी पढ़ें

सरदार पटेल की जयंती, जिन्होंने ‘हिन्दु राज्य की बात को पागलपन भरा विचार’ कहा था, मोदी देंगे श्रद्धांजलि

40 रुपये का सरदार पटेल का कोट और 4.31 करोड़ रुपये का प्रधानसेवक का कोट !

कांग्रेस के बड़े नेता सरदार वल्लभ भाई पटेल ने RSS पर देशद्रोह का आरोप लगाया था !

संघ-मोदी बेहूदा तर्क दे रहे हैं कि पटेल किसी दल की थाती नहीं हैं, जब स्वाधीनता संग्राम चल रहा था तो संघ कहाँ सोया हुआ था ?

पूर्वी बंगाल के हिंदू शरणार्थियों से बांग्लादेश की आजादी की कीमत वसूल रहा संघ परिवार

धर्मनिरपेक्षता और जन-क्रांति ही भारत की अभीष्ट अभिलाषा है, मोदी और संघ परिवार इसमें फिट नहीं हैं

सरदार पटेल बनाम झूठों के संघी सरदार

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:

View Comments (1)

  • मैं भाजपा, कांग्रेस, सपा व बसपा समेत देश/दुनिया की किसी भी राजनैतिक पार्टी का सदस्य नहीं हूँ।

    वहीं, आपके वेब पोर्टल ‘http://www.hastakshep.com’ को निष्पक्ष मानते हुए बीते शनिवार सब्सक्राइब कर लिया।

    किन्तु अवलोकन के उपरान्त मुझे यह ज्ञात हुआ कि यह पोर्टल पार्टी विशेष के पक्ष में वातपंथी विचारधारा युक्त देश एवं मानवता के लिए अहितकर है।

    लिहाजा मैं सब्सक्रिब्शन से बाहर होने की प्रक्रिया से अवगत नहीं हूँ।

    अतः आपकी पोर्टलगत भावनाओं को प्रभावित किए बिना आपसे आग्रह है कि मुझे सब्सक्रिब्शन से बाहर करने की कृपा करें।

    हस्तक्षेप के बहाने पक्षपातपूर्ण तरीके से किसी का केवल महिमा मंडन व किसी की केवल टाँग खींचना अशोभनीय व नकारात्मक ही नहीं, बौद्धिक अपराध भी है,

    धन्यवाद,

Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations