Home » समाचार » देश » जामिया में पुलिस हिंसा को लेकर प्रियंका गांधी का केंद्र पर हमला, यह सरकर कायर है
Congress General Secretary, Mrs. Priyanka Gandhi,कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी

जामिया में पुलिस हिंसा को लेकर प्रियंका गांधी का केंद्र पर हमला, यह सरकर कायर है

Priyanka Gandhi attacked Center for police violence in Jamia

नई दिल्ली, 16 दिसम्बर 2019 : जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय और अन्य शिक्षण संस्थानों में रविवार को पुलिस कार्रवाई पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भाजपा पर हमला किया है।

श्रीमती गांधी ने ट्वीट किया,

“देश के विश्वविद्यालयों में घुस-घुसकर विद्यार्थियों को पीटा जा रहा है। जिस समय सरकार को आगे बढ़कर लोगों की बात सुननी चाहिए, उस समय भाजपा सरकार उत्तर पूर्व, उत्तर प्रदेश, दिल्ली में विद्यार्थियों और पत्रकारों पर दमन के जरिए अपनी मौजूदगी दर्ज करा रही है। यह सरकर कायर है।”

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा,

“(भाजपा) जनता की आवाज से डरती है। इस देश के नौजवानों, उनके साहस और उनकी हिम्मत को अपनी खोखली तानाशाही से दबाना चाहती है। यह भारतीय युवा हैं, सुन लीजिए मोदी जी, ये दबेंगे नहीं, इनकी आवाज आपको आज नहीं तो कल सुननी ही पड़ेगी।”

दूसरी तरफ कई मुद्दों पर पार्टी से अलग रुख रख चुके जनता दल (यूनाइटेड) के नेता प्रशांत किशोर ने भी केंद्र पर हमला किया।

अब वायरल हो चुके एक वीडियो को पोस्ट उन्होंने किया, जिसमें लड़कियों का एक समूह कथित उपद्रवियों को बचाता दिख रहा है। पुलिस उन कथित उपद्रवियों को अपने कब्जे में लेना चाहती थी।

किशोर ने कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया,

“कथित कानून तोड़ने वालों के खिलाफ दिल्ली पुलिस के अहिंसक, बहादुरी भरे और पेशेवराना रवैये को देखिए।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), 2019 के विरोध में लगभग 1,000 लोगों ने प्रदर्शन किया, जिससे राष्ट्रीय राजधानी में पुलिस और छात्रों के बीच टकराव हो गया।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

farming

जानिए कृषि में रोजगार के अवसर क्या हैं

क्या आप भी जानना चाहते हैं कि एग्रीकल्चर से कौन कौन सी नौकरी मिल सकती …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.