जामिया में पुलिस हिंसा को लेकर प्रियंका गांधी का केंद्र पर हमला, यह सरकर कायर है

Priyanka Gandhi attacked Center for police violence in Jamia

नई दिल्ली, 16 दिसम्बर 2019 : जामिया मिलिया इस्लामिया विश्वविद्यालय और अन्य शिक्षण संस्थानों में रविवार को पुलिस कार्रवाई पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भाजपा पर हमला किया है।

श्रीमती गांधी ने ट्वीट किया,

“देश के विश्वविद्यालयों में घुस-घुसकर विद्यार्थियों को पीटा जा रहा है। जिस समय सरकार को आगे बढ़कर लोगों की बात सुननी चाहिए, उस समय भाजपा सरकार उत्तर पूर्व, उत्तर प्रदेश, दिल्ली में विद्यार्थियों और पत्रकारों पर दमन के जरिए अपनी मौजूदगी दर्ज करा रही है। यह सरकर कायर है।”

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा,

“(भाजपा) जनता की आवाज से डरती है। इस देश के नौजवानों, उनके साहस और उनकी हिम्मत को अपनी खोखली तानाशाही से दबाना चाहती है। यह भारतीय युवा हैं, सुन लीजिए मोदी जी, ये दबेंगे नहीं, इनकी आवाज आपको आज नहीं तो कल सुननी ही पड़ेगी।”

दूसरी तरफ कई मुद्दों पर पार्टी से अलग रुख रख चुके जनता दल (यूनाइटेड) के नेता प्रशांत किशोर ने भी केंद्र पर हमला किया।

अब वायरल हो चुके एक वीडियो को पोस्ट उन्होंने किया, जिसमें लड़कियों का एक समूह कथित उपद्रवियों को बचाता दिख रहा है। पुलिस उन कथित उपद्रवियों को अपने कब्जे में लेना चाहती थी।

किशोर ने कटाक्ष करते हुए ट्वीट किया,

“कथित कानून तोड़ने वालों के खिलाफ दिल्ली पुलिस के अहिंसक, बहादुरी भरे और पेशेवराना रवैये को देखिए।”

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए), 2019 के विरोध में लगभग 1,000 लोगों ने प्रदर्शन किया, जिससे राष्ट्रीय राजधानी में पुलिस और छात्रों के बीच टकराव हो गया।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations