Advertisment

पीएम मोदी के भावुक प्रहसन पर प्रियंका का कहानी के जरिए प्रहार

author-image
hastakshep
23 May 2021
"हम संघ के विधान को भारत का संविधान नहीं बनने देंगे" : नागरिकता संशोधन बिल पर प्रियंका का साफ ऐलान

Advertisment

Priyanka's emotional attack on PM Modi's emotional skit

Advertisment

नई दिल्ली, 23 मई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब-जब असफल साबित होते हैं, तब-तब रोने-धोने का प्रहसन कर लेते हैं। प्रधानमंत्री के इस प्रहसन पर कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी ने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए अपरोक्ष रूप से प्रहार किया है।

Advertisment

आप भी पढ़ें प्रियंका गांधी की फेसबुक पोस्ट

Advertisment

“किसी ने मुझे एक कहानी लिख कर भेजी - सोचा आप सब के साथ शेयर कर लूँ।

Advertisment

एक जहाज तूफान में फंसा हुआ था। कई लोग सबकी आंखों के सामने तूफान में डूब गए। कई लोगों के डूब जाने का खतरा था। जहाज में बैठे लोग, जहाज के छोटे-बड़े कर्मी सब जहाज को डूबने से बचाने में लगे थे। बहुत ही भयावह स्थिति थी फिर भी लोग साथ देकर एक दूसरे की हिम्मत बढ़ाते रहे। सबको ये भरोसा था कि जहाज का कैप्टन भी जहाज को बचाने का भरसक प्रयास कर रहा होगा। जब स्थिति ज्यादा बिगड़ने लगी तो लोगों ने जहाज के कैप्टन से अपील की। लेकिन लोग हतप्रभ रह गए जब उन्हें पता चला कि जहाज का कैप्टन तो गायब है। तमाम चीख-पुकारों, अपीलों को वो अनसुना करते हुए जिम्मेदारी की कुर्सी से उठकर कहीं चला गया था।

Advertisment

मगर लोग, छोटे-बड़े कर्मियों ने आशा नहीं छोड़ी। वे बचाव कार्य में लगे रहे। कई लोगों ने अपने साथी खो दिए, कई लोगों के सामने उनके अपने डूब गए। बहुत ही मार्मिक दृश्य था। मालूम करने पर पता चला कि जहाज के कैप्टन को पहले से जानकारी थी कि मौसम विपरीत होगा, जहाज डूब भी सकता है। लेकिन जहाज के कैप्टन ने न तो लोगों को समय पर आगाह किया, न ही लोगों की सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम और न ही जहाज का सुरक्षा कवच बढ़ाया।

Advertisment

और तो और जहाज के कैप्टन ने लोगों की सुरक्षा से जुड़ी कई आवश्यक चीजें दूसरे जहाजों को दे दीं।

लंबे समय तक ये मार्मिक दृश्य चलता रहा। लोगों एवं कर्मियों की मेहनत के बाद स्थिति कुछ नियंत्रण में आई। स्थिति नियंत्रण में आने के थोड़ी ही देर बाद अचानक कैप्टन की आवाज जहाज भर में गूंज उठी, एक के बाद एक लाऊडस्पीकर पर उसकी घोषणाएं आने लगीं, एक दिन तो उसकी आवाज़ अटकी और वह रोने भी लगा। जहाज पर फँसे हुए लोग अभी भी त्रस्त थे, कैप्टन की आवाज उन्हें सुनाई तो दे रही थी मगर कुछ दूर, कुछ अलग सी लगने लगी थी। एक दूसरे की मदद में सब व्यस्त थे, जाने अभी भी बचानी थीं। सबका ध्यान इन्हीं कार्यों में लगा हुआ था, किसी को पता तक नहीं लगा कि कैप्टन चुपचाप से बाहर आकर फिर से अपनी सीट पर बैठ गया था।

कार्टून (साभार): आलोक निरंकार”

https://www.facebook.com/262826941324532/posts/843118339962053/?sfnsn=wiwspmo

Advertisment
सदस्यता लें