फ्रांस के विरोध में प्रदर्शन करें, पर शिक्षक की हत्या पर अफसोस तो जाहिर करें

फ्रांस के विरोध में प्रदर्शन करें, पर शिक्षक की हत्या पर अफसोस तो जाहिर करें

Protest against France, but regret the teacher’s murder

फ्रांस की घटनाओं को लेकर शांति स्थापित करने की अपील

Appeal to establish peace on events in France

भोपाल 2 नवंबर 2020। राष्ट्रीय सेक्युलर मंच के संयोजक एल. एस. हरदेनिया ने यहाँ जारी एक वक्तव्य में कहा है कि फ्रांस में एक मुस्लिम युवक द्वारा एक शिक्षक की निर्मम हत्या से दुनिया के बड़े क्षेत्र में तनाव की स्थिति निर्मित हो गई है। यह स्थिति एक कार्टून को लेकर बनी। जहां हम कार्टून को अभिव्यक्ति का एक शक्तिशाली माध्यम मानते हैं वहीं कार्टून बनाने वालों से अपेक्षा है कि सभी की भावनाओं का ख्याल रखा जाए।

श्री हरदेनिया ने कहा कि जिन्हें कार्टून पसंद नहीं है, वे अपना विरोध करने के लिए हिंसा का रास्ता ना अपनाते हुए शांतिपूर्ण एवं लोकतान्त्रिक तरीके से अपना विरोध व्यक्त करें। इस समय अनेक देशों में फ्रांस के विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं। भारत में भी प्रदर्शन हो रहे हैं परंतु प्रदर्शनकारी उस शिक्षक की हत्या पर अफसोस का एक शब्द तक नहीं बोल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हम इस तथ्य को कैसे भूल सकते हैं कि दुनिया में प्रजातंत्र की स्थापना में फ्रांस की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। फ्रांस ने ही समानता, बंधुत्व और स्वतंत्रता को लोकतंत्र का मूल आधार बनाया।

श्री हरदेनिया ने सभी से अपील की है कि वे शांति स्थापित करने का प्रयास करें।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner