Home » Latest » वे छद्म हिन्दू हैं
Literature, art, music, poetry, story, drama, satire ... and other genres

वे छद्म हिन्दू हैं

वर्तमान में हिंदुओं को एक ही compartment में रखने की प्रक्रिया चल रही है। विविधता को गायब किया जा रहा है। यदि आप जय श्री राम न कहेंगे, तो आप हिन्दू नहीं हैं? छद्म हिन्दू पर अनिल सोडानी की एक रचना …

हिन्दू

मैं हिन्दू हूँ…

कर्म में , पूजा में

साकार और निराकार में,

विधि में, विधान में,

राम में, कृष्ण में,

कार्तिक में, गणेश में,

दुर्गा में, सीता में,

गीता और रामायण में

वेदों और वर्णों में,

पुनर्जन्म और स्वर्ग-नरक में

और बहुत कुछ में…

विश्वास करता हूँ…

मेरा धर्म मुझे इसकी

इज़ाज़त देता है।

मैं हिन्दू हूँ…

पूजा में नहीं, वेदों में नहीं

किसी मूर्ति में नहीं,

भगवान में भी नहीं,

स्वर्ग और नरक में नहीं

पुनर्जन्म में नहीं

विश्वास करता हूँ…

मेरा धर्म मुझे इसकी

इज़ाज़त देता है.

जगत सत्य और

ब्रह्म मिथ्या मानने की

इज़ाज़त भी देता है।

यह हिन्दू धर्म

एक काफिला है

हर सोच के व्यक्ति

एक साथ चल सकते

बिन किसी टकराव

बिन किसी द्वेष के।

जो हमें धकेले,

उनकी बनाई संकरी गली में,

वे या तो हिन्दू का

अर्थ नहीं जानते

या वे छद्म हिन्दू हैं

या हिन्दू धर्म का

उपयोग कर

वशीकरण का

खेल खेलते हैं।

-अनिल सोडानी

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

paulo freire

पाओलो फ्रेयरे ने उत्पीड़ियों की मुक्ति के लिए शिक्षा में बदलाव वकालत की थी

Paulo Freire advocated a change in education for the emancipation of the oppressed. “Paulo Freire: …

Leave a Reply