पुण्यतिथि पर याद किए गए पुलिन बाबू

पुण्यतिथि पर याद किए गए पुलिन बाबू

Pulin Babu remembered on his death anniversary

वंचितों, किसानों और शरणार्थियों के अधिकारों के लिए आजीवन लड़ने वाले पुलिनबाबू को आज दिनेशपुर और तराई की जनता ने याद किया। सभी का आभार।

इस मौके पर प्रेरणा अंशु की ओर से लॉकडाउन की सीमाओं के मानते हुए एक विचार विमर्श की पहल की गई।

सिर्फ श्रद्धांजलि काफी नही है और रस्म अदायगी से कुछ नहीं होता। हालात बदलने के लिए मास्साब और पुलिन बाबू के मिशन को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया युवा जनों ने।

बसंतीपुर से ग्राम प्रधान संजीत विश्वास, वार्ड मेम्बर और जन प्रतिबद्ध युवा पत्रकार प्रकाश अधिकारी, समाजसेवी नित्यानन्द मण्डल और पद्दोलोचन की अगुवाई में बसंतीपुर के युवाजनों ने आयोजन में खास भूमिका निभाई।

दिनेशपुर नगर पंचायत की सभायाद सुनील मिस्त्री के नेतृत्व में महिलाओं ने भी आयोजन में खास भूमिका अदा की। प्रेरणा अंशु के सम्पादक वीरेश सिंह,रीटायर्ड पोस्ट मास्टर समीर राय, प्रेरणा अंशु की व्यबस्थापक गीता सिंह, समाजोत्थान स्कूल की मैनेजिंग डिरेक्टर बबीता रानी राठौर, असित मण्डल, हमारी बेटियां गायत्री और निन्नी, पोती शिवन्ना, बेटियां किरण और प्रिया, नगर पंचायत चेयरमैन सीमा सरकार, समाजसेवी हिमांशु सरकार, मुन्ना,सुबीर, अनादि मण्डल, पत्रकार काजल राय, सुब्रत विश्वास, सभापति विकास सरकार और दिनेशपुर के आम ओ खास लोगों सभी का आभार।

युवा पत्रकार रूपेश कुमार सिंह ने तराई के बंगाली समाज और तराई के इतिहास पर एक पुस्तक जल्दी निकलने की घोषणा दोहराई और इसके लिए सबसे सहयोग मांगा।

5 से 7 बजे तक लगातार लोगों का तांता बना रहा। फिजिकल डिस्टेन्स का पालन किया गया। इसके कारण बहुत खास लोगों के नाम छूट जाने की आशंका है लेकिन उम्मीद ही कि सभी हमारे मिशन के साथ होंगे।

हम गांव गांव जाकर आप सभी से मिलेंगे और कोरोना पर जीत जरूर हासिल करेंगे।

पलाश विश्वास

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner