पुलवामा आतंकी हमले की बरसी पर राहुल ने पूछे तीन सवाल, भाजपा को मिर्ची लगेगी

Rahul asks three questions on the anniversary of Pulwama terror attack, BJP will get chilly

नई दिल्ली, 14 फरवरी 2020. पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमले की पहली बरसी पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने तीन चुभते हुए सवाल पूछ लिए हैं, जिन पर भाजपा को मिर्ची लगना स्वाभाविक है।

Rahul Gandhi on Pulwama terror attack,

राहुल गांधी ने ट्वीट किया

“आज जब हम #PulwamaAttack में हमारे 40 CRPF शहीदों को याद करते हैं, तो हमें पूछें:

  1. हमले से सबसे ज्‍यादा फायदा किसको हुआ?

  2. हमले की जांच का नतीजा क्‍या निकला?

  3. सुरक्षा में चूक की वजह से हमला हुआ, उसके लिए बीजेपी सरकार में किसे जिम्‍मेदार ठहराया गया?”

जाहिर है, राहुल के इस ट्वीट पर भाजपा को मिर्ची लगेगी और शाम होते-होते गोदी मीडिया इस ट्वीट परस चिल्ला-चिल्ली करेगा।

उधर माकपा नेता मोहम्‍मद सलीम ने कहा कि पुलवामा हमले का मेमोरियल बनाने की जरूरत नहीं हैं. उन्‍होंने कहा,

“हमें हमारी अक्षमता याद दिलाने के लिए मेमोरियल की जरूरत नहीं है। सिर्फ एक चीज को हमें जानने की जरूरत है, वो ये कि इंटरनेशनल बॉर्डर्स से 80 किलो RDX दुनिया के सबसे मिलिटराइज्‍ड जोन में कैसे पहुंचा और पुलवामा में फटा। पुलवामा हमले का न्‍याय होने की जरूरत है।”

 

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations