Home » Latest » राहुल गांधी का भारत बंद को समर्थन
Rahul Gandhi at Bharat Bachao Rally

राहुल गांधी का भारत बंद को समर्थन

Rahul Gandhi supports Bharat Bandh

नई दिल्ली, 26 मार्च 2021. पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भारत बंद को अपना समर्थन दिया है और कहा है कि इन कानूनों के विरोध करने का तरीका ‘सत्याग्रह‘ ही है। उन्हें उम्मीद है कि यह विरोध शांतिपूर्ण होगा।

श्री गांधी ने ट्वीट कर कहा,

“भारत का इतिहास गवाह है कि सत्याग्रह से ही अन्याय, अहंकार और अत्याचार का अंत होता है। आंदोलन देशहित में शांतिपूर्ण होना चाहिए।”

कांग्रेस करती रही है कृषि कानूनों का विरोध

कांग्रेस कृषि कानूनों का विरोध करती रही है और आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में है। राहुल गांधी ने भी इसमें हिस्सा लिया था और पंजाब और राजस्थान में ट्रैक्टर यात्रा की थी। पार्टी किसानों के समर्थन में देश भर में विरोध प्रदर्शन आयोजित करती रही है।

इस बीच सैकड़ों किसानों ने तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को लेकर चल रहे विरोध के चार महीने पूरे होने पर शुक्रवार को 12 घंटे के लिए किए गए भारत बंद के तहत दिल्ली-उत्तर प्रदेश गाजीपुर सीमा को भी बंद कर दिया।

किसानों ने दिल्ली को गाजियाबाद से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 24 को भी बंद कर दिया है।

किसान तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर हाईवे पर बैठे हुए हैं।

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने एक ट्वीट में कहा है,

“गाजीपुर बॉर्डर एनएच-24 पर यातायात बंद है, कृपया यहां से आने से बचें।”

संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने गुरुवार को कहा कि उसके ‘भारत बंद’ आह्वान के चलते शुक्रवार को सभी दुकानें, मॉल, बाजार और वाणिज्यिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। 12 घंटे का बंद सुबह 6 बजे से 6 बजे तक चलेगा। हालांकि, इस दौरान एम्बुलेंस और अन्य आवश्यक सेवाओं पर असर नहीं पड़ने दिया जाएगा।

एसकेएम द्वारा किए गए इस भारत बंद को विभिन्न किसान संगठन, ट्रेड यूनियन, छात्र समूह, वकील संघ, राजनीतिक दल और राज्य सरकारों के कई प्रतिनिधि समर्थन दे रहे हैं।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

dr. bhimrao ambedkar

65 साल बाद भी जीवंत और प्रासंगिक बाबा साहब

Babasaheb still alive and relevant even after 65 years क्या सिर्फ दलितों के नेता थे …

Leave a Reply