मन की बात के बीच मोदी को राहुल ने लिखी चिट्ठी, लॉक डाउन से दहशत में आये लोगों में विश्वास पैदा करने की ज़रूरत

Rahul Gandhi writes to the PM regarding the COVID-19 pandemic & the issues it entails while extending support to fight this crisis.

नई दिल्ली 29 मार्च 2020 : कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कोरोना वायरस के वायरस का फैलाव रोकने के लिए लॉकडाउन लागू करने के निर्णय को तो सही बताया, लेकिन साथ ही कहा है कि अचानक लिए गए इस फ़ैसले से कई लोग दहशत में हैं इसलिए उनमें विश्वास पैदा करने की ज़रूरत है।

The 21-day lockdown has caused panic and confusion in some people : Rahul Gandhi

रविवार को श्री मोदी को लिखे पत्र में श्री गांधी ने कहा कि 21 दिन के लॉकडाउन के कारण कुछ लोगो में दहशत और भ्रम की स्थिति पैदा हुई है। फैक्ट्री, छोटे उद्योग तथा निर्माण क्षेत्र में काम बंद हो गये हैं, जिससे हज़ारों श्रमिक डर के कारण अपने घरों के लिए पैदल सड़कों पर आ गए हैं।

कांग्रेस नेता ने कहा कि ये दिहाड़ी मजदूर काम नहीं होने से दहशत में हैं और अपने घरों को भाग रहे हैं। उनके लिए इस समय रहने की जगह और खाने की व्यवस्था करने की आवश्यकता है। उनमें विश्वास पैदा हो इसके लिए उनके खातों में सीधे पैसे जमा किये जाने चाहिए।

कांग्रेस नेता ने कोरोना की चुनौती से लड़ने के लिए सरकार के साथ एकजुटता व्यक्त करते हुए कहा कि इस समय सभी स्रोतों का इस्तेमाल करते हुए सामाजिक सुरक्षा के उपाय करने की आवश्यकता है। बड़ी आबादी वाले क्षेत्रों में इस रोग से निपटने के लिए अस्पताल बनाने पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि इस समय शहरों से लोग गांव की तरफ जा रहे हैं, लेकिन इससे गांव में संकट पैदा हो सकता है। गांव में वृद्ध लोगों को उनकी प्रतिरोधक क्षमता कम होने के कारण यह रोग ज्यादा प्रभावित कर सकता है इसलिए इस पर ध्यान देने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें – 

माफी न मांगें मोदीजी, यह त्रासदी आपकी सरकार द्वारा निर्मित है

देश की एकता और अखंडता को तार-तार करने के लिए जनता ने आपको लाइसेंस नहीं दिया है, लोगों को सताने की सभी बातें तुरंत बंद कीजिये

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations