राहुल गांधी का मोदी सरकार पर बड़ा हमला : पूछा- आतंकी देवेंद्र सिंह को कौन खामोश कराना चाहता है और क्यों?

Rahul Gandhi’s big attack on Modi government: asked-Who Wants Terrorist Davinder Silenced

नई दिल्ली, 17 जनवरी 2020. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Former Congress President Rahul Gandhi) ने जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार पुलिस अधिकारी देवेंद्र सिंह के मामले को एनआईए को सौंपे जाने को लेकर सवाल किया है कि आखिर कौन इस ‘आतंकी’ को चुप कराना चाहता है और क्यों?

केस एनआईए को सौंपे जाने पर उठाये सवाल – Questions raised on case being handed over to NIA

मामले की जांच एनआइए को सौंपे जाने को लेकर राहुल गांधी ने सवाल उठाये हैं।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया,

‘आतंकी डीएसपी देवेंद्र को खामोश करने का सबसे अच्छा तरीका है कि मामले को एनआइए के हवाले कर दिया जाए।’

उन्होंने दावा किया,

‘एनआइए का नेतृत्व एक और मोदी-वाईके कर रहे हैं, जिन्होंने गुजरात दंगों और हरेन पंड्या की हत्या की जांच की थी। वाईके की देखरेख में यह मामला खत्म होने की तरह है।’’

राहुल गांधी ने सवाल किया,

‘कौन आतंकी देवेंद्र को खामोश करना चाहता है और क्यों चाहता है?”

इससे पहले कल राहुल गांधी ने प्रमं. नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल पर निशाना साधते हुए कहा था कि ये लोग अभी तक खामोश क्यों हैं।

उल्लेखनीय है कि बीते दिनों जम्मू-कश्मीर के कुलगाम से डीएसपी देवेंद्र सिंह को गिरफ्तार किया गया था। देवेंद्र सिंह के साथ दो आतंकी भी गिरफ्तार किए गए थे।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations