राजीव गांधी हमेशा मानते थे कि किसान और खेती ही भारत के विकास की असली कुंजी है : सोनिया

Sonia Gandhi at Bharat Bachao Rally

Congress President Smt Sonia Gandhi addressed the Rajiv Gandhi Nyay Yojana Launch Function for Chhattisgarh farmers via video conferencing today.

Rajiv Gandhi always believed that farmers and agriculture are the real keys to India’s development: Sonia

Rajeev Gandhi

  नई दिल्ली, 21 मई 2020. कांग्रेस अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी ने कहा है कि राजीव जी के दिल में अन्नदाता किसान, खासतौर से महिला और आदिवासी किसान भाई बहनों के लिए बहुत प्यार और आदर था। इसीलिए वे समय-समय पर इन सब के बीच खुद जाते थे, उनसे सीधे संवाद करते थे और उनके जीवन में रोजमर्रा की तकलीफों की जानकारी लेते थे। वे हमेशा यह मानते थे कि किसान और खेती ही भारत के विकास की असली कुंजी है। आज राजीव जी की शहादत की पुण्य तिथि है। हम सभी उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं।

श्रीमती गांधी ने कहा कि किसानों को ज्यादा से ज्यादा ताकत देने, हर मुश्किल में राहत पहुंचाने, फसल की बेहतर कीमत दिलवाने और खेती को नई टेक्नोलॉजी के माध्यम से पूरे देश और दुनिया से जोड़ना ही राजीव जी की सोच और प्रतिबद्धता थी।

उन्होंने कहा कि,

“आज छत्तीसगढ़ सरकार, मुख्यमंत्री, भूपेश बघेल जी और उनके सभी साथियों को मैं बधाई देती हूं कि उन्होंने राजीव जी की भावना के अनुरूप एक बड़ा कदम उठाया है। ‘राजीव गांधी किसान न्याय योजना‘ के बारे में अभी मुख्यमंत्री बघेल जी ने हम सभी को बताया है। इसके अलावा इस योजना के जरिये छत्तीसगढ़ के किसानों को सभी जरूरी संसाधन उपलब्ध कराकर फसल उत्पादन में प्रोत्साहन देने जैसे कदम उठाकर उनके बैंक खातों में सीधे धनराशि भेजने की शुरूआत की है।

मुझे बताया गया है कि इस योजना के दूसरे चरण में भूमिहीन आदिवासी, कृषि मजदूरों को भी शामिल किया जायगा। यह एक बहुत ही अनोखा निर्णय है। जिससे वे आत्म निर्भर बनेंगे और उन सबके जीवन में बदलाव आएगा, खुशहाली आएगी।

मेरा मानना है कि ऐसी कारगर योजनाओं को सही मायने में जमीनी स्तर पर लागू कर इसका लाभ जन-जन तक पहुँचाकर उनके जीवन में परिवर्तन लाना ही, यही सही मायने में राजीव गांधी जी के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

मैं इस क्रांतिकारी योजना के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी और उनके सभी साथियों के साथ ही प्रदेश के किसानों और कृषि मजदूर भाई-बहनों को बहुत बहुत शुभकामनाएँ देती हूँ और उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करती हूँ।“

पाठकों सेअपील - “हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें