Home » Latest » रानी बोली अभी तो अंधेरे की शुरुआत हुई/ मंत्री बोले महाराज अभूतपूर्व यह बात हुई
Sarah Malik poem on King

रानी बोली अभी तो अंधेरे की शुरुआत हुई/ मंत्री बोले महाराज अभूतपूर्व यह बात हुई

रानी बोली अभी तो अंधेरे की शुरुआत हुई/ मंत्री बोले महाराज अभूतपूर्व यह बात हुई

सुबह सवेरे सूरज निकला

चिड़िया बोली, और दिन निकला

राजा ने आंखें मलीं, और मुंह खोला,

सोने का समय हुआ, दिन बीता रात हुई

रानी बोली अभी तो  अंधेरे की शुरुआत हुई,

मंत्री बोले महाराज अभूतपूर्व यह बात हुई।

 

नगाड़ा बजा रात का ऐलान हुआ

यह देख मुर्गा बड़ा परेशान हुआ,

शाही दावत में मुर्ग मुसल्लम का एहतमाम हुआ।

बड़े पैमाने पर प्रोग्राम हुआ, सब ने देखा सब ने खाया,

थोड़ा थोड़ा मु़र्गा सबके हिस्से में आया

यह देख सारे जानवर डर गए दावत ना हो जाए

छुपते छुपाते घर गए, जमाना बड़ा हैरान हुआ।

अब क्या  रह गया था सोचने को, सबको लगा रात हुई

सच राजा के मुंह की बात हुई, सुबह-सुबह यह नई शुरुआत हुई।

सारा मलिक

 

Sara Malik, सारा मलिक, लेखिका स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।
Sara Malik, सारा मलिक, लेखिका स्वतंत्र टिप्पणीकार हैं।

पाठकों से अपील

“हस्तक्षेप” जन सुनवाई का मंच है जहां मेहनतकश अवाम की हर चीख दर्ज करनी है। जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार के मुद्दे हैं तो प्रकृति, पर्यावरण, मौसम और जलवायु के मुद्दे भी हैं। ये यात्रा जारी रहे इसके लिए मदद करें। 9312873760 नंबर पर पेटीएम करें या नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके ऑनलाइन भुगतान करें

 

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

two way communal play in uttar pradesh

उप्र में भाजपा की हंफनी छूट रही है, पर ओवैसी भाईजान हैं न

उप्र : दुतरफा सांप्रदायिक खेला उत्तर प्रदेश में भाजपा की हंफनी छूट रही लगती है। …