ग़ज़ल के ख़िलाफ़ ‘विद्रोह’

ग़ज़ल के ख़िलाफ़ ‘विद्रोह’

The ‘revolt’ against ghazal

न्यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू

उर्दू शायरी के कई रूप हैंग़ज़ल, क़सीदा, मर्सिया, मसनवी आदि। इनमें से सबसे लोकप्रिय रूप ग़ज़ल है।

1940 के दशक में तथाकथित प्रगतिशीलऔर क्रांतिकारीलेखकों द्वारा उर्दू शायरी के ग़ज़ल रूप के विरुद्ध भारत में उर्दू शायरी में एक विद्रोह शुरू हुआ, जिसके कारण कई उर्दू कवियों ने ग़ज़ल लिखना बंद कर दिया। उन्होंने इस पारंपरिक और शास्त्रीय रूप में प्रगतिशील कविता लिखना जारी रखना अनुचित समझा। कुछ लोगों ने इसे शर्मनाक भी समझा।

1945 में भारत में उर्दू लेखकों की एक बड़ी सभा में, वक्ता के बाद वक्ता ने ग़ज़ल की आलोचना की, और लगभग सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया गया जिसमें कहा गया कि आधुनिक उर्दू कविता को ग़ज़ल के पारंपरिक बंधनों के बिना मुक्त छंद या किसी अन्य रूप में होना चाहिए, ताकि प्रगतिशील और आधुनिक विचारों को मुक्त रूप में व्यक्त किया जा सके।

यह कुछ हद तक 18 वीं शताब्दी के अंत में अंग्रेजी कविता में रोमांटिक पुनरुद्धार ( Romantic Revival ) जैसा था, जिसे वर्ड्सवर्थ और कोलरिज द्वारा उनके गीतात्मक गाथागीत‘ ( Lyrical Ballads ) में शुरू किया गया था, जिसने अलेक्जेंडर पोप और अन्य के अनम्य क्लासिकवाद (rigid classicism) के खिलाफ विद्रोह किया। लेकिन रोमांटिक पुनरुद्धार के विपरीत, यह विद्रोहअल्पकालिक था।

इसमें आगे जाने से पहले हमें यह समझना होगा कि ग़ज़ल क्या है।

ग़ज़ल एक छोटी कविता होती है जिसमें तुकबंदी करने वाले दोहे (आमतौर पर प्रत्येक कविता में 5 से 15) होते हैं जिन्हें शेर कहा जाता है, जो स्वतंत्र होते हैं फिर भी आमतौर पर अप्रत्यक्ष रूप से एक सामान्य विषय से जुड़े होते हैं।

एक शेर में 5 विशेषताएं होनी चाहिए, अन्यथा वह शेर नहीं है। ये हैं (1) रदीफ़ (2) क़ाफ़िया (3) मतला (4) मक़्ता (5) बहर।

इसे समझाने के लिए हम मजरूह सुल्तानपुरी की एक कविता लेते हैं :

“दुश्मन की दोस्ती है अब अहल-ए-वतन के साथ

है अब ख़िज़ां चमन में नए पैरहन के साथ

 सर पर हवा-ए-ज़ुल्म चले सौ जतन के साथ

अपनी कुलह कज है उसी बाँकेपन के साथ

किस ने कहा कि टूट गया खंजर-ए-फिरंग

सीने पे ज़ख्म-ए-नौ भी है दाग़-ए- कुहन के साथ

झोंके जो लग रहे हैं नसीम-ए- बहार के

जुम्बिश में है क़फ़स भी बहार असीर-ए-चमन के साथ

मजरूहक़ाफिले की मेरे दास्तां ये है

रहबर ने मिल के लूट लिया रहज़न के साथ

(1)शेर में रदीफ का अर्थ है पंक्ति के अंतिम शब्द या शब्द समूह (मिसरा) और उन्हें बिल्कुल एक जैसा होना चाहिए। ग़ज़ल के पहले शेर (जिसे मतला कहा जाता है) में रदीफ़ दोनों मिसरों में मौजूद होना चाहिए, लेकिन बाद के शेरों में यह केवल दूसरे मिसरे में आवश्यक है।

उपरोक्त ग़ज़ल में रदीफ़ के साथहै। पहले दो शेरों में पहले मिसरे में भी वही रदीफ है, लेकिन बाद के शेरों में ऐसा नहीं है। उदाहरण के लिए, तीसरे शेर में पहले मिसरे के अंत में रदीफ के साथनहीं है, लेकिन केवल दूसरे मिसरे में है।

(2) क़ाफ़िया का अर्थ है रदीफ़ से पहले का शब्द या शब्द समूह। कोई जरूरी नहीं कि ये शब्द या शब्द समूह बिल्कुल एक जैसे हों, लेकिन उनमें तुकबंदी ( rhyme ) होनी चाहिए।

उपरोक्त ग़ज़ल में, काफ़िया   अन‘  से अंत होने वाले शब्द हैं,    उदारणार्थ – अहले-वतन, पैरहन, जतन, बांकेपन, कुहन, चमन, आदि।

(3) मतला, जैसा कि ऊपर बताया गया है, का अर्थ है किसी ग़ज़ल का पहला शेर। इसके दोनों मिसरों में रदीफ होना आवश्यक है। बाद के शेरों में केवल दूसरे मिसरे में रदीफ अनिवार्य है।

(4) मक्ता ग़ज़ल का आख़िरी शेर है। इसमें आमतौर पर कवि का तखल्लुसया कलम नाम होता है, उदारणार्थ ग़ालिब, फ़ैज़, फ़िराक़ आदि।

(5) बहर का अर्थ है मीटर ( छंद ), जो छोटा, मध्यम या लंबा हो सकता है, लेकिन पूरे ग़ज़ल में एक ही मीटर का कड़ाई से पालन करना आवश्यक है।

इस प्रकार यह स्पष्ट है कि ग़ज़ल लिखने के लिए किसी भी विषय को चुनने की आज़ादी होने के बावजूद, उसे किस रूप में व्यक्त किया जाए इसकी आज़ादी नहीं है। सामग्री में स्वतंत्रता है, लेकिन रूप में नहीं।

प्रगतिशील उर्दू लेखकों ने ग़ज़ल के रूप में इस गैर-स्वतंत्रता के खिलाफ विद्रोह किया। शायद वे रोमांटिक रिवाइवल के अंग्रेजी कवियों, टीएस ईलियट ( T.S.Eliot ), वॉल्ट व्हिटमैन ( Walt Whitman ) आदि से प्रभावित थे, जिन्होंने कविता में कठोर रूपों के खिलाफ विद्रोह किया और रिक्त पद्य आदि प्रयोग किया। भारत में प्रगतिशील उर्दू लेखकों ने शायद यह सोचा था कि आधुनिक युग में उदार और लोकतांत्रिक विचार के लिए अभिव्यक्ति के मुक्त रूपों की आवश्यकता है।

उन्होंने शायद इस बात की अनदेखी की कि अंग्रेजी और अमेरिकी साहित्य की भारतीय साहित्य की तुलना में अलग-अलग परंपराएं और पृष्ठभूमि हैं। अरब से उत्पन्न ग़ज़ल, फारस में हाफिज़, रूमी, आदि द्वारा विकसित की गई थी, और आगे मीर, ग़ालिब आदि द्वारा काव्य अभिव्यक्ति के शक्तिशाली रूपों में विकसित की गई थी।

प्रगतिशील और क्रांतिकारी विचारों को भी जनता की सेवा के लिए शक्तिशाली रूप में व्यक्त करने की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए, ब्रिटिश शासकों द्वारा फांसी पर लटकाए गए भारतीय क्रांतिकारी बिस्मिल की कविता को लें :

“सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है”

देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है

वक्त आने दे तुझे बता देंगे ऐ आसमान

अभी से हम क्या बताएं क्या हमारे दिल में है”

इस ग़ज़ल में इतनी शक्ति है कि यह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का युद्ध गान बन गया। ग़ज़ल के सख्त नियमों का पालन करने से उसे कम नहीं बल्कि अधिक शक्ति मिली।

या फ़ैज़ की मशहूर ग़ज़ल हम परवरिश-ए-लौह-ओ-कलम करते रहेंगेया उस ग़ज़ल को लें जिसका पहला शेर है :

“गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौबहार चले”

चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले”

क्या कोई कह सकता है कि रदीफ, क़ाफिया, बहर आदि के सख्त नियमों का पालन करने के कारण ये कविताएँ कम प्रभावी हो गईं? नहीं, वे और अधिक शक्तिशाली हो गईं।

मेरा निवेदन है कि मुक्त छंद का उपयोग विचारों को व्यक्त करने के लिए किया जा सकता है, लेकिन तब यह अपनी शक्ति खो देगा।

संभवतः प्रगतिशील लेखकों द्वारा ग़ज़ल को इसलिए नापसंद किया गया था क्योंकि कई उर्दू कवि जनता की समस्याओं और आकांक्षाओं से असंबंधित विषयों पर लिखने के लिए ग़ज़ल का उपयोग कर रहे थे, और केवल अपनी व्यक्तिगत पीड़ा, एक महिला के लिए प्यार, आदि व्यक्त कर रहे थे।

वे जो भूल गए, वह यह था कि अभिव्यक्ति की विधा के रूप में यह ग़ज़ल का दोष नहीं था, बल्कि इसका उपयोग था।

आज भारतीय उपमहाद्वीप के लोगों को बेहतर जीवन के लिए उनके संघर्ष में प्रेरित करने के लिए शक्तिशाली कविता की आवश्यकता है। यदि इसके लिए ग़ज़ल के अलावा अन्य काव्य रूप तैयार किए जा सकते हैं, तो कोई आपत्ति नहीं होगी, लेकिन यह ध्यान रहे है कि ग़ज़ल भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है, और इसे छोड़ना नहीं चाहिए, जैसा कि प्रगतिशीललेखकों ने मांग की थी।

(लेखक सर्वोच्च न्यायालय के अवकाशप्राप्त न्यायाधीश हैं)

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner