क्या आप भी देते हैं अपने शिशु को स्मार्टफोन तो सावधान उसके बोलने में हो सकती है देरी

क्या आप भी देते हैं अपने शिशु को स्मार्टफोन तो सावधान उसके बोलने में हो सकती है देरी

18 महीने से छोटे बच्चों को न दें किसी तरह के मीडिया स्क्रीन

स्क्रीन वाले उपकरण हाथ में रखने और बोलने में देरी के बीच क्या संबंध है? What is the relationship between holding a screened device in hand and a delay in speaking?

नई दिल्ली, 10 अप्रैल 2022. आपका नन्हा बच्चा अगर ज्यादा समय स्मार्टफोन, टैबलेट और स्क्रीन वाले दूसरे उपकरणों से खेलने में बिताता है, तो उसके बोलने में देरी हो सकती है। एक शोध से पता चलता है कि स्क्रीन वाले उपकरणों के हर 30 मिनट ज्यादा इस्तेमाल से बोलने में देरी की आशंका 49 प्रतिशत तक बढ़ जाती है।

कैथरीन बिरकेन: बाल चिकित्सा विभाग में एक सामान्य बाल रोग विशेषज्ञ, टोरंटो विश्वविद्यालय (यू ऑफ टी) में प्रोफेसर, और सिककिड्स रिसर्च इंस्टीट्यूट में बाल स्वास्थ्य मूल्यांकन विज्ञान में एक वरिष्ठ वैज्ञानिक (Catherine Birken : a general paediatrician in the Division of Paediatric Medicine, Professor at the University of Toronto (U of T), and a Senior Scientist in Child Health Evaluative Sciences at SickKids Research Institute) का कहना है, “इन दिनों हाथ में पकड़ने वाले उपकरण (स्मार्टफोन, टैबलेट व दूसरे स्क्रीन वाले उपकरण) हर जगह मौजूद हैं। बच्चे जिद करके ले लेते हैं और उससे देर तक खेलते रहते हैं।”

बिरकेन ने कहा, “बच्चों को एक निश्चित समय तक ही स्क्रीन वाले उपकरणों का इस्तेमाल करना चाहिए। स्मार्टफोन और टैबलेट का इस्तेमाल छोटे बच्चे भी करने लगे हैं। हमारा अध्ययन बताता है कि स्क्रीन वाले उपकरण हाथ में रखने और बोलने में देरी के बीच गहरा संबंध है।”

देशबन्धु की एक पुरानी खबर के मुताबिक शोध की रिपोर्ट सैन फ्रांसिस्को में हुई पिडिएट्रिक एकेडमिक सोसाइटीज की बैठक (Pediatric Academic Societies Annual Meeting 2017 (PAS 2017)) में पेश की गई।

शोध करने वाली टीम ने छह महीने से लेकर दो साल की उम्र तक के 894 बच्चों का अध्ययन किया।

इस शोध के परिणाम अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के दिशा-निर्देश (American Academy of Pediatrics guidelines) के भी अनुकूल हैं, जिसमें 18 महीने से छोटे बच्चों को किसी तरह के स्क्रीन मीडिया के प्रति हतोत्साहित करने को कहा गया है।

हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें. ट्विटर पर फॉलो करें. वाट्सएप पर संदेश पाएं. हस्तक्षेप की आर्थिक मदद करें

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.