केरल के मुख्यमंत्री से सुदूर मल्लापुरम में फंसे निज़ामाबाद, आजमगढ़ के 86 मजदूरों को भेजने की रिहाई मंच ने की अपील

Rihai Manch appeals to Kerala’s Chief Minister to send 86 laborers from Nizamabad, Azamgarh trapped in remote Mallapuram

लखनऊ 6 मई 2020. रिहाई मंच ने केरल के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर आजमगढ़ के निज़ामाबाद के छियासी मजदूर जो लॉकडाउन में मल्लापुरम में फसे हैं, की घर वापसी सुनिश्चित करने की मांग की है. मंच ने कहा कि विभिन्न प्रदेशों में सुदूर क्षेत्रों में पूर्वांचल के मजदूर फंसे हैं. केरल प्रशासन ने आवश्यक कार्रवाई का आश्वासन रिहाई मंच को दिया है.

  कोरोना महामारी से निपटने के प्रयासों के लिए धन्यवाद देते हुए रिहाई मंच महासचिव राजीव यादव ने पत्र में बताया है कि निज़ामाबाद, आजमगढ़ के अजय यादव ने रिहाई मंच से संपर्क कर अवगत कराया कि वे और उनके 86 साथी केरल के जनपद मल्लापुरम के तिरुर में कांजराकोल में हैं। सभी टाइल्स मार्बल के काम में मजदूर हैं। इनके साथ तीन महिलाएं भी हैं। कोरोना महामारी की वजह से लंबे लॉकडाउन की स्थिति में यह सभी अपने गृह जनपद आजमगढ़ आना चाहते हैं। इन सभी को जब मालूम चला कि घर वापसी के लिए तिरुर थाने में रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया चल रही है तो वे वहां गए जहां उन्हें केरल पुलिस कोविड 19 माइग्रेंट लेबर आइडेंटी कार्ड जारी किया है। पूछने पर कि गाड़ी कब आएगी उनको कोई कन्फर्म सूचना नहीं मिली।

कोरोना महामारी के दौर में पूरे देश में मजदूर भाई परेशान हैं ऐसी स्थिति में रिहाई मंच ने गुजारिश की है कि उन्हें कब वहां से कैसे उनके गृह जनपद भेजा जाएगा अगर इसकी सूचना उनको हो जाए तो उनको सुकून मिलेगा।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations