Home » Latest » रिहाना और ग्रेटा थुनबर्ग ने भारत में किसानों के विरोध पर अंतर्राष्ट्रीय ध्यान आकर्षित किया
Chaudhary Rakesh Tikait

रिहाना और ग्रेटा थुनबर्ग ने भारत में किसानों के विरोध पर अंतर्राष्ट्रीय ध्यान आकर्षित किया

Rihanna and Greta Thunberg draw international attention to farmers’ protests in India

The ongoing protests of contentious agriculture laws to deregulate the farming sector gained some international momentum with Tweets from both Rihanna and climate activist Greta Thunberg.

दिल्ली, 03 फरवरी 2021. नए कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन को लेकर अंतर्राष्ट्रीय हलचल बढ़ गई है। विवादास्पद कृषि कानूनों के चल रहे विरोध ने रिहाना और जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थुनबर्ग दोनों के ट्वीट्स के साथ कुछ अंतर्राष्ट्रीय गति प्राप्त की है।

दिल्ली के आस-पास इंटरनेट सेवा पर रोक – शीर्षक से एक टीवी चैनल की खबर को ट्वीट करते हुए रिहाना ने अपने टाइमलाइन पर फार्मर्स प्रोटेस्ट हैशटैग के साथ लिखा कि हम इस बारे में बात क्यों नहीं कर रहे हैं?!

वहीं ग्रेटा थुनबर्ग ने ट्वीट किया –

हम भारत में #FarmersProtest के साथ एकजुटता में खड़े हैं।

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

हमारे बारे में उपाध्याय अमलेन्दु

Check Also

disha ravi

जानिए सेडिशन धारा 124A के बारे में सब कुछ, जिसका सबसे अधिक दुरुपयोग अंग्रेजों ने किया और अब भाजपा सरकार कर रही

सेडिशन धारा 124A, राजद्रोह कानून और उसकी प्रासंगिकता | Sedition section 124A, sedition law and …

Leave a Reply