आरएसएस-बीजेपी के लोगों ने लखनऊ में भड़काई थी हिंसा, पकड़कर पुलिस ने छोड़ा

RSS-BJP people incited violence in Lucknow, caught and left by police

नई दिल्ली, 10 जनवरी 2020. उत्तर प्रदेश पुलिस के पूर्व महानिरीक्षक एस. आर. दारापुरी ने आरोप लगाया है कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन (Demonstration against Citizenship Amendment Act (CAA)) प्रदर्शन के दौरान लखनऊ में आरएसएस-बीजेपी के लोगों ने हिंसा भड़काई थी।

श्री दारापुरी ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा,

“आरएसएस और बीजेपी के लोगों ने लखनऊ में भड़काई थी हिंसा जो 19 तारीख को पकड़ कर हज़रतगंज थाने में लाये गये थे और बाद में छोड़ दिये गए।“

उनकी पोस्ट पर कमेन्ट में गिरीश चन्द्र शर्मा ने लिखा,

“कैसरबाग चौराहे से लाटूश रोड चौराहे तक संघ समर्थक आबादी के गुंडा तत्व पत्थर बरसा रहे थे, दुकानों में तोड़फोड़ कर रहे थे। 19, 12, की शाम 4- 5 बजे के बीच। पुलिस उन्हें देख कर कि वे तो मुस्लिम नहीं हैं चुपचाप लौट गयी।“

 

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations