रूबिका लियाकत ने तोड़ा अपना संकल्प और “जनता कर्फ्यू”, ट्विटर पर ट्रेंड होने लगा #RubikaLiyaquat

Rubika Liaquat breaks her pledge and “public curfew”, trending on Twitter #RubikaLiyaquat

नई दिल्ली, 22 मार्च 2020. चर्चित और लोकप्रिय एंकर रूबिका लियाकत (Rubika Liyaquat) इस समय ट्विटर पर सुर्खी बनी हुई हैं, दरअसल उन्होंने खुद से लिया संकल्प और “जनता कर्फ्यू” को तोड़ा।

रूबिका ने  · Mar 19 को ट्वीट किया था,

“मैं ये संकल्प लेती हूं कि कोरोना के ख़िलाफ़ इस जंग में मुझसे जो बन पड़ेगा,करूंगी। रविवार को सुबह 7 से रात 9 बजे तक घर पर ही रहूंगी।   मैं ख़ुद को किसी भी क़ीमत पर संक्रमित नहीं होने दूंगी। महामारी के इस वक़्त में संयम मेरी सबसे बड़ी ताक़त होगी।“

लेकिन कल रात यानी 21 मार्च को ही उन्होंने अपना संकल्प तोड़ते हुए ट्वीट किया,

“कल का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। जनता कर्फ़्यू होगा। ज़्यादातर मीडियाकर्मी घर पर रहेंगे,किसी को तो दफ़्तर में रहना होगा। ज़िम्मेदारी मुझे सौंपी गई है। सुबह 5 बजे ऑफ़िस का रुख़ होगा। कर्तव्य के चलते अब कल ऑफ़िस ही मेरा घर होगा। #JantaCurfew सलामत रहिए और रखिए”

रूबिका यूं तो मोदी प्रशंसक एंकर के रूप में जानी जाती हैं, लेकिन जब भी वह विशेष रिपोर्टिंग करती हैं, विरोधी भी उनकी प्रशंसा करते हैं। होली के दिन मध्य प्रदेश एपिसोड को लेकर की गई उनकी रिपोर्टिंग उनके माथे पर सजी बिन्दी काफी पसंद की गई।

यह भी पढ़ें –

कोरोना से लड़ने के लिए पीएम मोदी के जनता कर्फ्यू आइडिया से हैरान हैं वैज्ञानिक और डॉक्टर, शर्मिंदा हैं अपनी पढ़ाई पर !

कोरोना वायरस : सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल के लिए क्या प्रधानमंत्री वाकई गंभीर हैं? इतने गंभीर संकट पर भी जुमलेबाजी !

क्या यह ख़बर/ लेख आपको पसंद आया ? कृपया कमेंट बॉक्स में कमेंट भी करें और शेयर भी करें ताकि ज्यादा लोगों तक बात पहुंचे

कृपया हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें

Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
उपाध्याय अमलेन्दु:
Related Post
Leave a Comment
Recent Posts
Donate to Hastakshep
नोट - हम किसी भी राजनीतिक दल या समूह से संबद्ध नहीं हैं। हमारा कोई कॉरपोरेट, राजनीतिक दल, एनजीओ, कोई जिंदाबाद-मुर्दाबाद ट्रस्ट या बौद्धिक समूह स्पाँसर नहीं है, लेकिन हम निष्पक्ष या तटस्थ नहीं हैं। हम जनता के पैरोकार हैं। हम अपनी विचारधारा पर किसी भी प्रकार के दबाव को स्वीकार नहीं करते हैं। इसलिए, यदि आप हमारी आर्थिक मदद करते हैं, तो हम उसके बदले में किसी भी तरह के दबाव को स्वीकार नहीं करेंगे। OR
Donations